हादसों में घायलों का चालक और परिचालक करेंगे इलाज

Shankar Sharma

Publish: Jan, 13 2018 10:40:42 (IST)

Bangalore, Karnataka, India
हादसों में घायलों का चालक और परिचालक करेंगे इलाज

सडक़ दुर्घटनाओं में घायलों की मदद के लिए कर्नाटक राज्य सडक़ परिवहन निगम (केएसआरटीसी) चालक, परिचालकों को प्राथमिक इलाज करने का प्रशिक्षण देगा

बेंगलूरु. सडक़ दुर्घटनाओं में घायलों की मदद के लिए कर्नाटक राज्य सडक़ परिवहन निगम (केएसआरटीसी) चालक, परिचालकों को प्राथमिक इलाज करने का प्रशिक्षण देगा। आपातकाल के समय में घायलों के उपचारार्थ वीडियो क्रान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विशेषज्ञ चिकित्सक उनकी मदद करेंगे।

परिवहन मंत्री एच.एम. रेवण्णा ने शुक्रवार को शांतिनगर में सडक़ ‘गोल्डेन ऑवर ट्रस्ट’ और केएसआरटीसी के सहयोग के ‘फस्र्ट एड किट’ जारी करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि निगम कि इस महत्वाकांक्षी योजना का उद्देश्य सडक़ हादसों में होने वाली मौतों की संख्या में कमी लाना है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की सेवा शुरू करने वाला निगम देश का पहला संस्थान है और इससे सडक़ हादसों में होने वाली मौतों की संख्या में जरूर कमी आएगी। १०६२ पर फोन करने पर यह सेवा मिल सकेगी।


३६ हजार से अधिक को प्रशिक्षण
प्रथम चरण में केएसआरटीसी के ११००९ चालकों, ३५८३ परिचालकों, १३७०४ चालक कम परिचालकों, ५१९३ तकनीकी कर्मचारियों, ३२९२प्रबंधन कर्मचारियों सहित कुल ३६७८१ कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। बाद में दूसरे परिवहन निगमों के कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।


मौत में ८० प्रतिशत की हो सकती है कमी
स्पर्श अस्पताल के न्यूरो सर्जन और गोल्डन ऑवर ट्रस्ट के चेयरमैन डॉ. एनके वेंकटरमन ने कहा कि दुर्घटनाओं के समय तुरंत प्राथमिक उपचार की सुविधा उपलब्ध हो तो दुर्घटनास्थल पर मौतों की संख्या में ८० प्रतिशत की कमी आ सकती है। हम इसी दिशा में बढ़ रहे हैं।

८६ चालक सम्मानित
केएसआरटीसी ने सुरक्षित तरीके से बस चलाने वाले ८६ चालकों का सम्मान किया। इन चालकों के सेवाकाल के दौरान करीब पांच वर्षों से कोई दुर्घटना नहीं हुई है। निगम के मुख्यालय शांतिनगर में सम्मान समारोह हुआ। निगम के प्रबंध निदेशक एसआर उमाशंकर ने बताया कि दुर्घटनाओं में कमी लाने के उद्देश्य से निगम अच्छी तरह से बसों को चलाने वाले चालकों के लिए प्रतिवर्ष स्वर्ण पदक, रजत और कांस्य पदक देकर सम्मानित करता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned