किसान से रिश्वत लेते उप प्रबंधक रंगे हाथ गिरफ्तार

गाय की मौत होने पर सुरेश ने बीमा के लिए 50,000 रुपए राहत राशि के लिए याचिका दाखिल की थी

By: Ram Naresh Gautam

Updated: 08 Jun 2018, 03:49 PM IST

बेंगलूरु. तुमकूरु जिले के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) अधिकारियों ने एक किसान से 3,000 रुपए रिश्वत लेते समय तुमकूरु जिला दूध महासंघ के उप प्रबंधक डॉ. वाई.एल. नागराज को बुधवार शाम रंगे हाथ गिरफ्तार किया। एसीबी अधिकारियों के अनुसार तुरुवेकेरे तहसील माविनाकेरे गांव निवासी किसान सुरेश ने गाय के लिए बीमा कराया था। गत फरवरी में गाय की मौत होने पर सुरेश ने बीमा के लिए 50,000 रुपए राहत राशि के लिए याचिका दाखिल की थी। आरोपी ने राशि जारी करने के लिए दो बार 10 हजार रुपए रिश्वत ली। फिर नागराज ने चेेक देने के लिए 3,000 रुपए देने की मांग की। सुरेश ने आश्वासन देकर एसीबी पुलिस थाने मेंं शिकायत दर्ज कराई। बुधवार शाम सुरेश से रिश्वत लेते समय एसीबी अधिकारियों ने नागराज को पकड़ा। उस पर तुरुवेकेरे पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया है।

 

नागराज ने पार्टी से विश्वासघात किया: नटराज
बेंगलूरु. जयनगर विधानसभा क्षेत्र में पालिका के भाजपा पार्षदों ने पार्टी उम्मीदवार बी.एन. प्रहलाद का समर्थन करने तथा चुनाव प्रचार करने की घोषणा की है। प्रहलाद की उम्मीदवार का विरोध करने में मुखर रहे पूर्व महापौर एस.के. नटराज ने बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस क्षेत्र से टिकट नहीं मिलने पर बैरसंद्रा वार्ड के भाजपा पार्षद एन. नागराज नाराज होकर पार्टी से दूर हो गए हैं और कांग्रेस की उम्मीदवार सौम्या रेड्डी के समर्थन में चुनाव प्रचार कर रहे हैं। इसकी कई तस्वीरें और वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर दिख रही हैं। उन्होंने कहा कि नागराज ने भाजपा के साथ विश्वासघात किया है। भाजपा के उम्मीदवार बी.एन. निजय कुमार का निधन होने के बाद भादपा ने उनके भाई प्रहलाद को टिकट देने का फैसला लिया। उन्होंने कहा कि वे भी टिकट के दावेदार थे। इसके अलावा पूर्व पार्षद सी.के. राममूर्ति, सोमशेखर तथा अन्य पार्षद भी टिकट के दावेदार थे। जब प्रहलाद के नाम की घोषणा की गई तो हमने दावा छोड़ दिया और प्रचार में जुट गए।

 

बहुत आसान है हिंदी सीखना
बेंगलूरु. कर्मचारी राज्य बीमा निगम क्षेत्रीय कार्यालय बेंगलूरु में आयोजित एक दिवसीय पूर्णकालिक संयुक्त हिंदी कार्यशाला में 33 कर्मचारियों ने भाग लिया। अपर आयुक्त एवं क्षेत्रीय निदेशक जेएच नायक ने कहा कि भारत सरकार हिंदी के प्रयोग को प्रोत्साहन देने के लिए कई तरह की योजनाएं चला रही है। हिंदी सीखना आसान है तथा एक और भाषा को सीखना भी अच्छा रहता है। सभी को अपने दैनिक कार्य के साथ-साथ कार्यशाला में भी भाग लेना जरूरी है। राजभाषा नीति के कार्यान्वयन के लिए आवश्यक है कि हम हिन्दी में काम करें। राजभाषा प्रभारी उप निदेशक चंपक बिश्वास ने कहा कि कार्यशाला तभी सफल होती है जब आप अपने दैनिक कार्य में हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग करें। अत: आप हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग करें तथा इस कार्यशाला को सफल बनाएं। हिंदी अधिकारी सुरेंद्र पराशर, कनिष्ठ हिंदी अनुवादक रणसिंह, राकेश कुमार, कैलाशचंद शर्मा ने प्रतिभागियों का मार्गदर्शन किया।

Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned