बिना मीटर रीडिंग किए थमा रहे बिजली बिल, उपभोक्ता नाराज

कॉल करने पर नहीं मिल रहा सही जवाब

By: Santosh kumar Pandey

Published: 10 May 2020, 04:00 PM IST

बेंगलूरु. बेंगलूरु बिजली आपूिर्त कंपनी (बेसकॉम ) ने मीटर रीडिंग देखेबगैर बिल देने पर उपभोक्ताओं ने नाराजगी जताई है। हर उपभोक्ता को अलग-अलग शुल्क के बिल दिए गए हैं। इस मामले को लेकर हर दिन सैंकड़ों उपभोक्ता बेसकॉम के हेल्प लाइन को कॉल कर रहे है, लेकिन किसी भी ग्राहक को स्पष्ट जवाब नहीं मिल रहा है।

होसाहल्ली के रहने वाले महेश लॉकडाउन के कारण रिश्तेदार के घर गए थे। अब घर लौटने पर उन्हें 850 रुपए काबिल आया है। महेश को हर माह 400 से 500 रुपए के बीच का बिल आता था। वह हर माह 60 से 70 यूनिट बिजली का इस्तेमाल करते है।

हेल्पलाइन को कॉल करने पर यही जवाब मिला कि अगले माह की बिल में सही किया जाएगा। घरों में बिजली का इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ता हर माह अधिक्तम 75 यूनिट बिजली का इस्तेमाल करते है। दो माह तक बिजली इस्तेमाल करने पर भी 150 यूनिट बिजली का इस्तेमाल कर सकता है। उपभोक्ताओं ने ऑनलाइन के जरिए भुगतान किया है तो भी दो माह का बिल दिया गया है।

बेसकॉम बिल देते समय इस्तेमाल के स्लैब के आधार पर शुल्क तय करता है। खपत की गई यूनिटों के आधार पर यह स्लैब और उसका शुल्क तय किया जाता है। 30 यूनिट तक बिजली का रेट 3.75 रुपए है। 70 यूनिट तक 5.20 रुपए, 100 यूनिट तक 6.75 रुपए और इससे अधिक खपत होने पर एक यूनिट के लिए 7.80 रुपए लगता है। बेस्कॉम के कर्मचारी मीटर रीडिंग दो माह का बिल एक साथ कर रहे है।

कई उपभोक्ताओं ने मार्च के बिल का भुगतान किया है। फिर भी दो माह का बिल देने से उपभोक्ता असमंजस का शिकार है।

बेसकॉम के प्रबंधन निदेशक राजेश गौड़ा ने बताया कि बेसकाम से किसी भी तरह की कोई गलती नहीं हुई। उपभोक्ताओं ने मार्च का बिल दिखाकर नकद भुगतान किया है। अगर कम दाम भुगतान किया है तो अगले माह के बिल में अधिक दाम शामिल किया जाएगा। अगर किसी ने अधिक भुगतान किया है, तो बिल कम आएगा। इसलिए गाहकों को चाहिए कि वह बेसकॉम के कार्यालय को भुगतान की रसीद दिखाकर समस्या हल कर सकते हैं।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned