शहर के तालाबों पर अतिक्रमणों का सिलसिला बरकरार

तालाबों के सर्वेक्षण में मामला उजागर

By: Sanjay Kulkarni

Published: 28 Oct 2020, 08:44 AM IST

बेंगलूरु.शहर में तालाबों की भूमि पर अतिक्रमणों का सिलसिला बरकरार है। हाल में बृहद बेंगलूरु महानगरपालिका (बीबीएमपी) की ओर से किए गए 169 तालाबों के सर्वेक्षण में यह मामला उजागर हो गया है।इस सर्वेक्षण की रिपोर्ट के मुताबिक इन तालाबों के 580 एकड़ से अधिक भूमि पर अतिक्रमण किया गया है।इन तालाबों की भूमि पर बस स्टैंड, स्टेडियम, वाणिज्य संकुल तथा आवासीय ले आउटस का निर्माण किया गया है।

बीबीएमपी के सूत्रों के मुताबिक 50-60 के दशक में शहर में 23 हजार 366 एकड़ विस्तार के 837 तालाब थे।अब इनमे से 205 तालाब बचे है। इन 205 तालाबों में से 19 तालाब केवल दस्तावेजों में ही मौजूद है।हाल में उच्च न्यायालय तथा राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण की फटकार के पश्चात बीबीएमपी ने राजस्व विभाग के सहयोग से शहर के तालाबों का सर्वेक्षण किया गया है।इस सर्वेक्षण की रिपोर्ट तथा 169 तालाबों के नक्शे बीबीएमपी की वैबसाइट पर जारी किए गए है।

बीबीएमपी की सर्वेक्षण रिपोर्ट के मुताबिक शहर के पूर्व संभाग के 46 तालाबों का सर्वेक्षण किया गया है। इन तालाबों की 1641 एकड़ भूमि में से 154 एकड़ भूमि पर अतिक्रमण किया गया है। दक्षिण संभाग के 64 तालाबों की 1316 एकड़ भूमि में से 253 एकड़ भूमि पर अतिक्रमण किया गया है। उत्तर संभाग के 57 तालाबों की 2100 एकड़ भूमि में से 220 एकड़ भूमि पर अतिक्रमण किया गया है।आनेकल तहसील 2 तालाबों के 58 एकड़ भूमि में से 3 एकड़ भूमि पर अतिक्रमण किया गया है।

अभी तक शहर के 169 तालाबों का सर्वेक्षण किया गया है।इन तालाबों की 5 हजार 239 एकड़ भूमि में से 584 एकड़ भूमि पर अतिक्रमण किया गया है।शहर के दक्षिण संभाग में सबसे अधिक अतिक्रमण किया गया है।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned