पूर्व पीएम देवेगौड़ा के बिगड़े बोल, सीएम सिद्धू को कहा 'नीच'

देवेगौड़ा ने कहा कि उन्होंने सिद्धरामय्या जैसे 'नीच' को राजनीति में आगे बढ़ाकर बड़ा अपराध किया है

बेंगलूरु. विधानसभा चुनाव करीब आने के साथ विरोधियों के खिलाफ नेताओं के बयानों में तल्खी बढऩे लगी है। जनता दल (ध) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा के बोल भी अपने पुराने साथी से विरोधी बने मुख्यमंत्री की आलोचना करते वक्त बिगड़ गए और देवेगौड़ा ने सिद्धरामय्या को 'नीच' कह दिया। देवेगौड़ा ने सिद्धरामय्या को राजनीति में आगे बढ़ाने के लिए अफसोस भी जाहिर किया।
केंगेरी उपनगर के क्लब के पास यशवंतपुर विधान सभा क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा देवेगौड़ा ने कहा कि उन्होंने सिद्धरामय्या जैसे 'नीच' को राजनीति में आगे बढ़ाकर बड़ा अपराध किया है। सिद्धरामय्या को सत्ता से हटाकर ही दम लेने की बात कहते हुए देवेगौड़ा ने कहा कि सिद्धरामय्या का वक्त अब खत्म हो गया है, उनकी सरकार कुछ दिनों की मेहमान है। देवेगौड़ा ने कहा कि सिद्धरामय्या को जिस शक्ति ने सत्ता तक पहुंचाया है, वही शक्ति सत्ता भी छीनेगी। देवेगौड़ा ने कहा कि कांग्रेस में सोनिया गांधी की शक्ति घटने के कारण सिद्धरामय्या तानाशाह की तरह व्यवहार कर रहे हैं। देवेगौड़ा ने सिद्धरामय्या को निचले स्तर का नेता भी कहा।
सिद्धरामय्या विश्वाघाती, अहंकारी
विगत ५ फरवरी को देवेगौड़ा के चुनाव क्षेत्र हासन के श्रवणबेलगोला में भगवान गोम्मटेश्वर बाहुबली के महामस्तकाभिषेक महोत्सव के उद्घाटन समारोह में मंच पर बैठे होने के बावजूद बोलने का मौका नहीं दिए जाने से नाराज देवेगौड़ा ने अपने चिर राजनीतिक प्रतिद्वंदी सिद्धरामय्या को विश्वासघाती और अहंकारी भी बताया। देवेगौड़ा ने सिद्धरामय्या पर भ्रष्टाचार को लेकर भी निशाना साधा। देवेगौड़ा ने कहा कि वे भ्रष्टाचार पर आंकड़े पेश कर सिद्धरामय्या सरकार की पोल खोलेंगे। देवेगौड़ा ने अर्कावती ले-आउट और कम्पण्णा आयोग की रिपोर्ट का मामला भी उठाया।
देवेगौड़ा ने कहा कि सिद्धरामय्या ने जनता का दिल जीतने के लिए उनका इस्तेमाल किया। मेंगलूरु में ओबक्का की जयंती में बुलाया लेकिन श्रवणबेलगोला में मुझे बोलने का अवसर नहीं दिया।
पुरानी प्रतिद्वंदिता
देवेगौड़ा और सिद्धरामय्या के बीच राजनीतिक प्रतिद्वंदिता काफी पुरानी है। कभी देवेगौड़ा के साथ रहे सिद्धरामय्या ने मुख्यमंत्री नहीं बनाए जाने के कारण देवेगौड़ा का साथ छोड़ दिया था। कुछ समय तक अपनी अलग पार्टी चलाने के बाद सिद्धरामय्या कांग्रेस में आ गए और कालांतर में कांग्रेस के सत्ता में आने पर मुख्यमंत्री भी बन गए। हालांकि, यह पहला मौका नहीं है जब देवेगौड़ा के बोल बिगड़े हों। इससे पहले भी एक टीवी चैनल के लाइव शो में विरोधियों के खिलाफ आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल किया था।

Narendra Modi
कुमार जीवेन्द्र झा Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned