मेगा शिविर में ३५०० लोगों का नेत्र परीक्षण

मेगा शिविर में ३५०० लोगों का नेत्र परीक्षण

Santosh Kumar Pandey | Publish: Mar, 17 2019 10:04:31 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

जैन यूथ एसोसिएशन (जेवाईए) की ओर से रविवार को 21वां निशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर हीराबाग में आयोजित किया गया। शिविर की शुरुआत दिव्यांग बच्चों के मंगलाचरण से हुई।

बेंगलूरु. जैन यूथ एसोसिएशन (जेवाईए) की ओर से रविवार को 21वां निशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर हीराबाग में आयोजित किया गया। शिविर की शुरुआत दिव्यांग बच्चों के मंगलाचरण से हुई।

कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस महासचिव आगा सुल्तान, विधान परिषद सदस्य रिजवान अरशद एवं फिरोज अब्दुल्लाह बतौर अतिथि उपस्थित थे। शिविर के मुख्य दानदाता रंजीत कुमार, जितेंद्र कुमार, आगमकुमार कानूनगा ने दीप प्रज्ज्वलित कर शिविर का उद्घाटन किया। शिविर में 5000 लोगों का रजिस्ट्रेशन हुआ था जिनमें से 3५०० लोग शिविर में शामिल हुए।

जैन यूथ एसोसिएशन ट्रस्ट के अध्यक्ष इंदरचंद बोहरा ने मुख्य दानदाता रंजीत कुमार को शिविरार्थियों के बारे में जानकारी दी तो उन्होंने आगामी २०२० में आयोजित होने वाले नेत्र शिविर भी स्वयं के खर्चे पर करने का आश्वासन दिया।
राजेश बांठिया ने बताया कि शिविर में डॉ. नरपत सोलंकी व उनकी टीम ने सेवाएं दी। शिविर को सफल बनाने में जैन यूथ एसोसिएशन प्राइम के युवा सदस्यों का योगदान रहा। शिविर में आए रोगियों के नेत्र जांच के साथ साथ, उनका ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर भी चेक किया गया। मरीजों को चश्मा, दवाई, भोजन और साथ में एक किलो चावल का पैकेट, बिस्किट एवं चाकलेट दी गई।

जेवाईए के मंत्री जयचंद लुणावत ने संस्था की गतिविधियों के बारे में बताया। संघ के कोषाध्यक्ष रमेश, बोहरा ने आभार जताया। मंच संचालन राजेश बांठिया ने किया। सुरेश छल्लानी, जैन युवा संगठन के अध्यक्ष भरत रांका, मंत्री दिनेश खिंवेसरा, उपाध्यक्ष रूपकुमार कुम्भट, डॉ. अशोक समदडिय़ा, चेतनप्रकाश डूंगरवाल,मोहनलाल अखावत व शांतिलाल गोटावत आदि उपस्थित थे।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned