सूखती फसल की वजह से मुरझा रहे किसानों के चेहरे

नहरों में पानी छोडऩे की मांग

By: Santosh kumar Pandey

Published: 26 Jun 2020, 04:07 PM IST

मंड्या. जिला गन्ना उत्पादन किसान गन्ने की सूखती फसलों को बचाने के लिए कृष्णराज सागर बांध से नहरों में पानी छोडऩे की मांग कर रहे हैं।

बताया जाता है कि कावेरी निरावरी निगम ने करीब एक माह से जिला में सिंचाई करने वाली सभी नहरों में पानी छोडऩा बंद कर दिया। पानी के अभाव में खेत में खड़ी गन्ना व धान की फसल सूखने लगी है। कृष्णराज बांध में बुधवार को 95 फीट पानी भरा हुआ है। बांध की कुल क्षमता 124 फीट है।

गत बर्ष मानसून में 100 दिन के भीतर बांध भर चुका था। इस वर्ष जून माह आधा बीत जाने पर भी बांध नहीं भरा है। किसान खेतों में सूखती फसलों को बचाने व फिर से खेती शुरू करने के लिए बांध से नहरों में पानी छोडऩे की आस लगाए बैठे हुए हैं।

फसलों को बचाने के लिए किसान श्रीरंगपट्टण तहसील , पांडवपुरा तहसील और केआरपेट तहसील में एक सप्ताह के भीतर कई बार प्रदर्शन कर चुके हैं। पांडवपुरा तहसील के सर विश्वेश्वरैया नहर, एल्लुर चौराहा नहर, मंड्या कोप्पल गांव से गुजरने वाली नहरों में सिंचाई करने के लिए बांध से पानी बंद कर दिया है। जिला किसान संघ अध्यक्ष सुुबणहल्ली सुरेश ने कहा कि निरावरी निगम को नहरों में पानी छोडऩा चाहिए।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned