चीनी मिल खुलने पर किसानों के चेहरे खिले

तीन महीनों में काम शुरू होगा

By: Yogesh Sharma

Published: 14 Jun 2020, 03:39 PM IST

मंड्या. पांडवपुरा की सहकारी चीनी मिल (पीएसएसके) शुरू करने की आहट से ही गन्ना किसानों के चेहरे खुशी से खिल उठे। पीएसएसके चीनी मिल संचालन का दायित्व भाजपा नेता व पूर्व मंत्री मुरगेश निराणी का सौंपा गया है। जिलाधिकारी एम.वी. वेंकटेश ने यह चीनी मिल निराणी को 40 वर्ष के लिए लीज पर दी है। चीनी मिल खुलने पर श्रीरंगपट्टण , पांडवपुरा और केआरपेट तहसील के गन्ना उत्पादक किसानों को गन्ना बेचने में आ रही समस्या दूर होगी। किसानों का कहना है कि मिल शुरू होने पर फिर एक बार उम्मीद जागी है। मिल में एक दिन में 3500 टन गन्ना की पिराई की जा सकेगी। मिल 36 एकड़ में बनी है। मिल बंद होने से गन्ना उत्पादक किसानों को गन्ना गुड़ बनवाने वाले व्यापारियों को ओने-पोने दामों बेचना पड़ रहा था। मिल के नए मालिक भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री मुरगेश निराणी एक सप्ताह पहले जायजा ले चुके हैं। उन्होंने तीन महीने में मिल शुरू करने का भरोसा दिया है।
मिल शुरू पर इन्होंने यह कहा
पांडवपुरा तहसील में चीनी मिल (पीएसएसके) शुरू होने पर उन्हें कोई आपत्ति नही है। गन्ना उत्पादन किसानों को समस्या को सुनने के साथ किसानों को विश्वास में लेकर काम करना होगा।
सी.एच. पुटराजु, विधायक
पांडवपुरा
पांडवपुरा तहसील की बंद पड़ी चीनी मिल खुलने पर गन्ना उत्पादक किसानों की समस्या दूर होगी। किसान लम्बे समय मिल खोलने की मांग कर थे।
नारायण गौड़ा, बागवानी मंत्री
पांडवपुरा तहसील चीनी मिल खुलने पर गन्ना उत्पादक किसानों को समस्या दूर होगी और किसान खुशहाल होंगे। भाजपा नेता व पूर्व मंत्री मुरगेश निराणी को दायित्व सौंपने पर उनको कोई आपत्ति नही है।
सुरेश गौड़ा, विधायक नागमंगला
पांडवपुरा तहसील में बंद पड़ी चीनी मिल खुलने पर मजबूर होकर कम दाम में बेचने वाले गन्ना उत्पादक किसानों की समस्या दूर होगी। मिल के निजीकरण से उनको कोई आपत्ति नही है।
बालकृष्णा, विधायक, चनरायणपट्टणा

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned