उपवास करने से नष्ट हो जाती हैं मन की पाप भावनाएं

उपवास करने से नष्ट हो जाती हैं मन की पाप भावनाएं

Shankar Sharma | Updated: 12 Jun 2019, 11:30:36 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

दुर्गुणों को त्याग कर सद्गुणों को आत्मसात करने वाला ही महान बनता है। रमजान के महीने में किए जाने वाले उपवास का विशेष महत्व है।

इलकल (बागलकोट). दुर्गुणों को त्याग कर सद्गुणों को आत्मसात करने वाला ही महान बनता है। रमजान के महीने में किए जाने वाले उपवास का विशेष महत्व है। उपवास करने से मन में भरी पाप आदि भावनाएं नष्ट होकर आध्यात्मिक शक्ति में वृद्धि होती है। ये विचार चितरगी संस्थान मठ के प्रमुख गुरूमहांतस्वामी ने रविवार शाम जमाते इस्लामी हिन्द की ओर से आयोजित ईद मिलन समारोह में व्यक्त किए।


उन्होंने कहा कि मन का कोई आकार नहीं है, वह निराकार है। अब तक जितने भी महापुरुष बने उन सभी ने मन के आंतरिक कषाय जैसे-मोह, माया, लोभ, क्रोध, राग व द्वेष पर विजय पाई। आपसी सौहार्द के लिए सभी लोगों के बीच समन्वय का होना जरूरी है। हमें भी हमारे अंदर जो दुर्गुण व्याप्त हैं, उनको त्यागकर सद्गुणों को आत्मसात करते का प्रयत्न करना चाहिए।


जमाते इस्लामी हिन्द के कर्नाटक राज्य सलाह समिति के सदस्य जनाब अकबर उडुपी ने कहा कि मनुष्य का मनुष्य बना रहना जरूरी है। मानवता धर्म का निर्वाह करने से ही समाज में सौहार्द की स्थापना होती है। एक परिवार में अनेक सदस्य साथ रहते हैं परन्तु सबके विचार एवं अभिरुचि अलग-अलग होने के बावजूद सब प्रेम बंधन में बंधे रहते हैं। देश में सभी धर्मों के लोगों को अपने ढंग से रहने की स्वतंत्रता है। यह सहिष्णुता ही हमें आपस में जोड़े रखती है। धर्म आपस में जोड़ता है तोड़ता नहीं। हमेशा सहिष्णुता बनाए रखें ताकि हरेक व्यक्ति खुशहाल रह सके।


कार्यक्रम का आगाज हाफिज उस्मान जामयी की ओर से कुरान की आयतें पढऩे से हुआ। स्वागत डॉ. नूर मोहम्मद बिलेकुदरी ने किया। मंच पर अंजुमन संस्था के अध्यक्ष उस्मानगनी हुमनाबाद, मुहम्मद अली यत्तन्नट्टी, मेहबूब अल्म बडगन, सी.सी. चन्द्रपट्टण, नागराज होन्गल, अरूण बिज्जल, शरणप्पा, सिद्दण्णा आमदीहाल, लक्ष्मण गुरम, अब्दुल रज्जाक तटगार एवं बबलू बिलेकुदरी मौजूद थे। संचालन महबूब हुसैन गब्बूर ने किया। अंत में अब्दुल गफ्फार तहसीलदार ने सभी का आभार जताया।

विरोध बढऩे के बाद पलटी सरकार?

बेंगलूरु. जेएसडब्लू स्टील कंपनी को बल्लारी जिले में 3367 एकड़ भूूमि बेचने के राज्य सरकार के प्रस्ताव का सत्तारूढ़ व विपक्षी दलों द्वारा कड़ा विरोध किए जाने के मद्देनजर राज्य सरकार ने कंपनी को भूमि बेचने के प्रस्ताव पर फिलहाल रोक लगाने का निर्णय किया है।

सूत्रों के अनुसार विपक्षी दल भाजपा व गठबंधन के घटक दलों के कड़े विरोध को देखते हुए मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने जिंदल समूह की जेएसडब्लू स्टील को भूूमि की बिक्री के प्रस्ताव पर स्थगन लगने का निर्णय किया है। 27 मई को हुई राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में जेएसडब्लू को गाइडेंस वेल्यू के साथ ही बाजार दाम से भी कम मूल्य पर 3367 एकड़ भूमि बेचने के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया गया था। राज्य के उद्योग मंत्री के.जे. जार्ज व जल संसाधन मंत्री डी.के.शिवकुमार ने जेएसडब्लू को इतनी बड़ी मात्रा में जमीन देने के सरकार के निर्णय का बचाव किया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned