साइबर अपराध मामले में राज्य में पहला अभियोजन

साइबर अपराध मामले में राज्य में पहला अभियोजन

Ram Naresh Gautam | Publish: Sep, 08 2018 06:03:17 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

अभियुक्त को दो साल की जेल, 25 हजार रुपए का जुर्माना

नौकरी छोड़कर बचाव के लिए की वकालत की पढ़ाई

बेंगलूरु. एक दशक के कानूनी लड़ाई के बाद अपराध अनुसंधान विभाग (सीआइडी) साइबर अपराध से जुड़े एक मामले में सजा दिलवाने में सफल हो पाई है। साइबर सुरक्षा कानून के तहत अभियोजन का राज्य में यह पहला मामला है। शहर की एक अदालत ने मामले में आरोपी को दोषी करार देते हुए 2 साल के कारावास और 25 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।

आरोपी शिवप्रसाद सज्जन ने मामले की कानूनी लड़ाई लडऩे के लिए सूचना तकनीक पेशेवर का अपना कॅरियर छोड़कर कानून की पढ़ाई की और वकील बन गया। कानून की खामियों का सहारा लेकर शिवप्रसाद एक दशक तक मामले को उलझाता रहा लेकिन अंतत: प्रथम अतिरिक्त महानगरीय न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत ने उसे दोषी करार देकर सजा सुनाई। शिवप्रसाद ने पीडि़ता को आपत्तिजनक चित्र ई-मेल से
भेजे थे।

बाद में उसने अन्य लोगों को भी ये चित्र साइबर कैफे से भेजे। वर्ष 2008 में मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। जमानत पर रिहा होने के बाद उसने विधि पाठ्यक्रम मेें दाखिला लिया और पढ़ाई पूरा करने के अपने मामले में बचाव के लिए खुद पैरवी की।


राष्ट्रीय पोषण महा अभियान पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग करेंगे पीएम मोदी
बेंगलूरु. राष्ट्रीय पोषण महा अभियान के शुभारंभ पर 11 सितम्बर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश के सभी 29 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के योजना के लाभान्वितों और अधिकारियों को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करेंगे। योजना को कर्नाटक में शुरू करने के लिए राज्य ने तैयारी की है। अतिरिक्त मुख्य सचिव, विकास आयुक्त वंदिता शर्मा, जो कृषि उत्पादन की आयुक्त भी हैं, ने शुक्रवार को मंत्रिमंडल सचिव प्रदीप कुमार सिन्हा को वीडियो कॉन्फ्रेंस समीक्षा बैठक में सूचित किया कि राज्य ने प्रधानमंत्री के साथ होने वाले संवाद की तैयारियां की हैं।

विशेषकर योजना से संबंधित दो महत्वाकांक्षी जिलों रायचूर और यादगीर में विशेष व्यवथा की गई है ताकि प्रधानमंत्री से सीधा संवाद हो सके। वंदिता ने कहा कि राष्ट्रीय पोषण महाअभियान की तर्ज पर ही कर्नाटक में पहले से मातृपूर्णा योजना गतिमान है और काफी सफल है। 23 सितम्बर को झारखंड में मोदी द्वारा शुरू किए जाने वाले प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान को कर्नाटक में प्रभावी तरीके से क्रियान्वित करने के लिए आवश्यक तैयारियां भी की गई हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned