कर्नाटक में शुक्रवार को भी बाढ़ का कहर जारी

खाद्यान्नों के गोदामों और दाल मिलों में बाढ़ का पानी घुसा

By: Santosh kumar Pandey

Published: 16 Oct 2020, 06:24 PM IST

बेंगलूरु. कर्नाटक के अनेक हिस्सों में पिछले कई दिनों से हो रही बरसात के कारण हालत शुक्रवार को भी गंभीर रहे। बारिश और प्रमुख बांधों से पानी छोड़े जाने के कारण कई जिलों में लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बाढ़ का सबसे ज्यादा कहर उत्तर कर्नाटक में है। इस क्षेत्र में पिछले तीन महीने में तीसरी बार बाढ़ आई है। हावेरी, कोप्पल, बेलगावी, कलबुर्गी, रायचूर, यादगिर, गदग, धारवाड़, बागलकोट, विजयपुरा आदि जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हैं।

कलबुर्गी और यादगिर जिलों में भीमा नदी उफान पर है। दोनों जिलों में कई गांव जलमग्न हो गए हैं और खेतों में खड़ी फसल तबाह हो गई है।
खबरों के मुताबिक खाद्यान्नों के गोदामों और दाल मिलों में बाढ़ का पानी घुस जाने से वहां रखा सामान नष्ट हो गया है।

सीएम ने केंद्रीय गृह मंत्री को दी हालात की जानकारी

मुख्यमंत्री बी एस येडियुरप्पा ने बाढ़ के हालात को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री से बात की है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार कर्नाटक के हालात से वाकिफ है। गृहमंत्री ने हरसंभव सहायता का आश्वासन दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार राहत कार्यों के लिए प्रतिबद्ध है तथा राजस्व मंत्री आर अशोक ने बाढग़्रस्त क्षेत्रों का दौरा शुरू कर दिया है।
कर्नाटक के आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने राज्य के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई को बाढ़ के हालात के बारे में जानकारी दी है।
एक अधिकारी के अनुसार राज्य में सितंबर के अंत तक औसत वर्षा तकरीबन 800 मिलीमीटर होती है, वहीं इस वर्ष यह करीब 1,000 मिलीमीटर पर पहुंच गई है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned