उत्तर कर्नाटक में बाढ़ की स्थिति गंभीर, 36 हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया

  • कई गांव अभी भी डूबे हुए
  • भीमा नदी में उफान

By: Santosh kumar Pandey

Published: 19 Oct 2020, 06:07 PM IST

बेंगलूरु. उत्तर कर्नाटक (North Karnataka) में सोमवार को भी बाढ़ की स्थिति (Flood situation) गम्भीर बनी रही। सोमवार को भी राहत व बचाव कार्य जारी रहा। बाढ़ से सर्वाधिक प्रभावित कलबुर्गी, विजयपुरा, यादगीर और रायचूर जिलों में कई गांव अभी भी डूबे हुए हैं। अभी तक 36,000 से अधिक लोगों को बचाया गया है और सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को भी भीमा नदी में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है और नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

उफन रही भीमा नदी

वहीं, केंद्रीय जल आयोग (Central water commission) के अनुसार महाराष्ट्र में मूसलाधार बारिश और वहां के बांधों से पानी छोडऩे के कारण भीमा नदी 14 अक्टूबर से उफान पर है। भीमा नदी कृष्णा की एक सहायक नदी है। भीमा में उफान के कारण कलबुर्गी, विजयपुरा, यादगीर और रायचूर में हालात गम्भीर हो गए हैं। इलाके में रुक-रुक कर हो रही भारी बारिश के कारण राहत व बचाव कार्य प्रभावित हो रहे हैं।

174 राहत शिविरों में २८ हजार से अधिक लोग

कर्नाटक राज्य प्राकृतिक आपदा निगरानी केंद्र (ksndmc) के अधिकारियों ने कहा कि चार जिलों के 97 गांव सबसे ज्यादा प्रभावित हैं और वहां रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया है। एक अधिकारी ने बताया कि अब तक 36,290 लोगों को निकाला गया है। सरकार ने बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए 174 राहत शिविर खोले हैं, जहां 28,007 लोग रह रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार सेना और आपदा प्रतिक्रिया बल के जवान बाढ़ प्रभावित इलाकों से लोगों को निकालने में लगे हुए हैं।

बेंगलूरु में भी बारिश

इस बीच, बेंगलूरु में रविवार रात से भारी बारिश के कारण कुछ स्थानों पर जलजमाव हो गया। मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, शहर में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड आधारित मौसम वेधशाला में सोमवार सुबह खत्म हुए 24 घंटे की अवधि में 39.6 मिमी वर्षा दर्ज की गई।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned