पूर्व उप महापौर समर्थकों के साथ कांग्रेस में शामिल

बेंगलूरु दक्षिण लोकसभा क्षेत्र में आश्चर्यजनक रूप से तेजस्वी सूर्य को टिकट देने के बाद से भाजपा नेताओं में नाराजगी थम नहीं रही है।

बेंगलूरु. बेंगलूरु दक्षिण लोकसभा क्षेत्र में आश्चर्यजनक रूप से तेजस्वी सूर्य को टिकट देने के बाद से भाजपा नेताओं में नाराजगी थम नहीं रही है। इसी कारण का हवाला देते विधायक वी. सोमण्णा के करीबी साथी पूर्व उप महापौर लक्ष्मी नारायण अपने समर्थकों के साथ सोमवार को कांग्रेस में शामिल हो गए। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव ने सोमवार को पार्टी कार्यालय में पार्टी का ध्वज देकर उन्हें सदस्यता प्रदान की।


इस अवसर पर लक्ष्मी नारायण ने कहा कि प्रदेश भाजपा में सबकुछ ठीक नहीं है। भाजपा आलाकमान ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार की पत्नी तेजस्विनी को टिकट देने के बजाय तेजस्वी को उम्मीदवार बनाया है, जिससे पार्टी के कई नेताओं, कार्यकर्ताओं की उम्मीदवारों पर तुषारापात हुआ।

अनंत कुमार ने दक्षिण क्षेत्र के विकास के लिए बहुत कुछ किया। तेजस्विनी को टिकट नहीं मिलने से वे कांग्रेस में शामिल हुए हैं। अब कांग्रेस उम्मीदवार के समर्थन में प्रचार करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा के सांसद केवल धर्म के नाम पर प्रचार करते हैं। केवल भड़क़ाऊ भाषण देते हैं। तेजस्वी सूर्य को भी इसी कारण टिकट दिया गया है। इस अवसर पर बेंगलूरु दक्षिण क्षेत्र के कांग्रेस प्रत्याशी बीके हरिप्रसाद, विधायक रामलिंगा रेड्डी समेत कई नेता उपस्थित थे।

२८ सीटों पर मुकाबले में बचे ४७८ प्रत्याशी
बेंगलूरु. राज्य में दो चरणों में होने जा रहे लोकसभा चुनाव में २८ संसदीय क्षेत्रों में ४७८ उम्मीदवारों के बीच चुनावी मुकाबला होगा। 23 अप्रेल को होने वाले 14 लोकसभा सीटों के मतदान के लिए नाम वापसी के अंतिम दिन 45 उम्मीदवारों के चुनाव मैदान से हट जाने के बाद 237 उम्मीदवार ही चुनाव मैदान में शेष बचे हैं, जबकि स्क्रूटनी के बाद २८२ उम्मीदवार शेष थे। वहीं १८ अप्रेल को होने वाले चुनाव में १४ सीटों पर 241 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।


२३ अप्रेल के चुनाव में सबसे ज्यादा ५७ उम्मीदवार बेलगावी संसदीय क्षेत्र से हैं जबकि रायचूर में सबसे कम ५ उम्मीदवारों के बीच मुकाबला है। गौरतलब है कि इन सीटों पर 311 उम्मीदवारों ने 457 नामांकन पत्र भरे थे। हालांकि स्क्रूटनी के बाद २८२ उम्मीदवार शेष रहे और सोमवार को ४५ उम्मीदवारों ने नामांकन वापस ले लिया। २८ संसदीय क्षेत्रों में ५८,१८६ मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इनमें पहले चरण की १४ सीटों के दौरान ३०,१६४ मतदान केंद्रों पर वोट डाला जाएगा जबकि दूसरे चरण में २८ हजार २२ मतदान केंद्रों पर मतदान होगा।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned