फिरौती देने के बाद अपहर्ताओं के चंगुल से छूटे पूर्व मंत्री वर्तूर प्रकाश और बताई यह बात

तीन दिन बाद रिहा होने का किया दावा

By: Santosh kumar Pandey

Published: 02 Dec 2020, 07:55 PM IST

बेंगलूरु. पूर्व मंत्री वर्तूर प्रकाश ने कथित तौर पर पिछले सप्ताह अपहरण और फिरौती देने के बाद रिहा किए जाने की शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

बेलंदूर पुलिस थाने को दी गई शिकायत में प्रकाश ने अज्ञात लोगों द्वारा अपहृत किए जाने की बात कही है। शिकायत मेें प्रकाश ने कहा कि वे 25 नवम्बर को कोलार स्थित अपने फार्म हाउस से कोलार शहर की ओर जा रहे थे। फार्म हाउस से करीब एक किलोमीटर की दूरी पर कुछ अज्ञात लोगों ने उनकी कार के आगे और पीछे कार खड़ी कर रास्ता रोक लिया। वे आठ लोग थे।

उन लोगों ने प्रकाश को कार से बाहर आने के लिए कहा लेकिन मना करने पर प्रकाश और चालक सुनील को पिछली सीट पर धकेल दिया और आंखों पर पट्टी बांध दी। इसके बाद वे लोग कार को अज्ञात स्थान पर ले गए। प्रकाश ने 30 करोड़ रुपए फिरौती मांगे जाने और पिटाई किए जाने की बात भी कही है। प्रकाश ने कहा कि उन्होंने अपहर्ताओं को एक परिचित के माध्यम से 48 लाख रुपए दिलवाए लेकिन वे पूरी राशि की मांग को लेकर प्रताडि़त कर रहे थे। 28 नवम्बर को पिटाई से घायल चालक बेसुध हो गया।

मृत समझकर छोड़ा था

अपहर्ता उसे मृत समझ कर कुछ दूरी पर शराब पी रहे थे। देर रात चालक होश में आने के बाद मौके का फायदा उठाकर फरार हो गया। इसकी जानकारी मिलने पर अपहर्ता इस बात से डर गए कि कहीं फरार चालक इसकी सूचना पुलिस को ना दे दे। इसके बाद अपहर्ताओं ने प्रकाश को एक वाहन में लाकर होसकोटे के पास छोड़ दिया। उपचार कराने के बाद उन्होंने मंगलवार शाम थाने में शिकायत दर्ज कराई।

पुलिस मामले की जांच कर रही है। प्रकाश 2008 और 2013 में कोलार से निर्दलीय विधायक रहे हैं। सदानंद गौड़ा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में प्रकाश मंत्री रह चुके हैं।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned