scriptलगातार बारिश से बेलगावी जिले में चार पुल डूबे, नदियां खतरे के निशान पर | Patrika News
बैंगलोर

लगातार बारिश से बेलगावी जिले में चार पुल डूबे, नदियां खतरे के निशान पर

लगातार बारिश जारी रहने के कारण बेलगावी जिले की नदियों में जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच गया, जिससे शनिवार को कई सडक़ें और पुल डूब गए। महाराष्ट्र से कृष्णा नदी में पानी का बहाव कई गुना बढ़ गया है, जिससे बेलगावी जिले में कुछ स्थानों पर सडक़ संपर्क टूट गया है।

बैंगलोरJul 06, 2024 / 11:09 pm

Sanjay Kumar Kareer

karnataka-rain
बेंगलूरु. महाराष्ट्र के सीमावर्ती जिलों और बेलगावी में लगातार बारिश जारी रहने के कारण बेलगावी जिले की नदियों में जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच गया, जिससे शनिवार को कई सडक़ें और पुल डूब गए। महाराष्ट्र से कृष्णा नदी में पानी का बहाव कई गुना बढ़ गया है, जिससे बेलगावी जिले में कुछ स्थानों पर सडक़ संपर्क टूट गया है। शनिवार को चिक्कोडी में चार पुलों के डूब जाने की खबरें आईं। लगातार बारिश के कारण चिक्कोडी तालुक के कुछ गांवों में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है।

झरनों में प्रवेश प्रतिबंधित

लगातार बारिश के मद्देनजर प्रशासन ने एहतियात के तौर पर बेलगावी जिले के खानापुर तालुक में सात झरनों में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है। सप्ताहांत में झरने देखने के लिए हजारों लोग आते हैं, इसलिए प्रतिबंध लगाया गया है और प्रवेश बिंदुओं की सुरक्षा के लिए वन कर्मियों को तैनात किया गया है।

बारिश घटी, तटीय कर्नाटक के निवासी घर लौटे

उधर, तटीय कर्नाटक क्षेत्र में शनिवार को बारिश कम होने के साथ ही राहत केंद्रों में शरण लिए हुए लोग अपने घरों को लौटने लगे हैं। गुरुवार और शुक्रवार को राहत केंद्रों में 200 से अधिक लोग थे, जबकि शनिवार को यह संख्या घटकर 26 रह गई।उत्तर कन्नड़ जिले की जिलाधिकारी लक्ष्मीप्रिया के ने आश्वासन दिया कि राहत केंद्रों में रहने वाले लोगों को भोजन, आश्रय और चिकित्सा देखभाल सहित सभी आवश्यक सुविधाएं प्रदान की जाती रहेंगी। कदरा बांध के ऊपर काली नदी के जलग्रहण क्षेत्रों में जल स्तर भी कम हो गया है, जो जिला प्रशासन द्वारा निर्धारित सीमा से नीचे आ गया है।

मकानों और बिजली लाइनों को नुकसान

पिछले 24 घंटों में उत्तर कन्नड़ जिले में तीन घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए। इसी तरह, उडुपी जिले में चार घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए, जिनमें करकला और कुंदापुर तालुकों में दो-दो घर शामिल हैं। दक्षिण कन्नड़ जिले में तीन घरों को आंशिक क्षति हुई और बुनियादी ढांचे को काफी नुकसान पहुंचा, जिसमें 106 बिजली के खंभे और 5.30 किलोमीटर लंबी आपूर्ति लाइनें शामिल हैं।

दक्षिण कन्नड़ जिले में आंगनवाड़ी, स्कूल कॉलेज बंद

भारी बारिश के कारण दक्षिण कन्नड़ जिले में स्कूल, आंगनवाड़ी और प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज बंद रहे क्योंकि मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है। दक्षिण कन्नड़ जिले के जिलाधिकारी मुल्लई मुहिलान ने भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) की ओर से जारी रेड अलर्ट के मद्देनजर आंगनवाड़ी, स्कूल और प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज बंद रखने का आदेश दिया था।

अभी जारी रहेगा बारिश का दौर

जिला प्रशासन ने मछुआरों को मछली पकडऩे की गतिविधियों के लिए समुद्र में न जाने का भी निर्देश दिया है। नागरिकों और पर्यटकों को निचले इलाकों, नदी के किनारों और समुद्र तटों से बचने की सलाह दी है। आईएमडी के अनुसार, 7 से 9 जुलाई के दौरान तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है। 9 जुलाई को उत्तरी आंतरिक कर्नाटक में भारी वर्षा होने की संभावना है।

फुटब्रिज से गिरकर महिला बही

शिवमोग्गा जिले के होसानगर तालुक के बैसे गांव में 43 वर्षीय शशिकला नामक महिला सुपारी के पेड़ों से बने फुटब्रिज से गिरकर बह गई। होसनगर, सागर और तीर्थहल्ली तालुकों के कई हिस्सों में भारी बारिश हो रही है, जिससे नदियां उफान पर हैं। रिपोर्ट के अनुसार, मृतका शशिकला अपने खेत जाते समय फुटब्रिज से गिर गई। जब वह घर नहीं लौटी, तो उसके परिवार के सदस्यों ने उसकी तलाश शुरू की। उसका शव फुटब्रिज से लगभग एक किलोमीटर नीचे एक पेड़ से चिपका मिला।

Hindi News/ Bangalore / लगातार बारिश से बेलगावी जिले में चार पुल डूबे, नदियां खतरे के निशान पर

ट्रेंडिंग वीडियो