20 पदों के साक्षात्कार को पहुंचे चार हजार अभ्यर्थी

दपरे चिकित्सा विभाग में रिक्त विभिन्न पदों पर सीधे साक्षात्कार के लिए आवेदन आमंत्रित किया गया था। मंगलवार को स्टाफ नर्स के 20 पदों के लिए साक्षात्कार आयोजित किया गया था

By: शंकर शर्मा

Published: 07 Jun 2018, 09:56 PM IST

हुब्बल्ली. रोजगार का सपना लिए देश भर से आए हजारों अभ्यर्थियों को दक्षिण पश्चिम रेलवे (दपरे) चिकित्सा अधिकारियों की लापरवाही के कारण शहर के गदग रोड स्थित दपरे मुख्य अस्पताल में परेशानियों का सामना करना पड़ा। दपरे चिकित्सा विभाग में रिक्त विभिन्न पदों पर सीधे साक्षात्कार के लिए आवेदन आमंत्रित किया गया था। मंगलवार को स्टाफ नर्स के 20 पदों के लिए साक्षात्कार आयोजित किया गया था। कर्नाटक मात्र नहीं राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, केरल, आंध्र प्रदेश आदि राज्यों से चार हजार से अधिक युवक-युवतियां आए थे।

अभ्यर्थी तडक़े 4 बजे से ही दपरे मुख्य अस्पताल परिसर में कतार में खड़े थे। सुबह 10 बजे साक्षात्कार आरम्भ होना था परन्तु साक्षात्कार के लिए आए हजारों अभ्यर्थियों को देखकर अधिकारी हैरान हो गए। समय गुजरते ही अभ्यॢथयों की संख्या बढ़ती ही गई। इन्हें नियंत्रित करना कठिन हुआ।

बाद में रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के जवान आकर धक्कामुक्की पर काबू पाया। सुबह 11 बजे बाद भी साक्षात्कार आरम्भ नहीं होने पर अभ्यर्थियों ने अधिकारियों के साथ बहस करने लगे। एक ही दिन सभी अभ्यर्थियों का साक्षात्कार करना मुश्किल होने के कारण प्रति दिन 250 अभ्यर्थियों का साक्षात्कार करने का चिकित्सा अधिकारी ने फैसला लिया। इसके बाद अभ्यर्थियों को विभिन्न दिनों के साक्षात्कार के टोकन देकर भेजने में अधिकारियों को काफी दिक्कत हुई।


अभ्यॢथयों ने जताया आक्रोश
विभिन्न राज्यों, दूर दराज से आए अभ्यर्थियों ने रेलवे अस्पताल के अधिकारियों की लापरवाही पर नाराजगी जताते हुए कहा कि अधिकारियों ने अन्य दिन साक्षात्कार करने का टोकन दिया है। तब तक हुब्बल्ली में रुकने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं हैं। फिर से गांव जाकर आना चाहिए या फिर रोजगार की उम्मीद को छोड़ देना चाहिए समझ में नहीं आ रहा है।

मोदी ने दिया भ्रष्टाचार मुक्त शासन : शोभा
मेंगलूरु. उडुपी-चिकमगलूर संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद शोभा करंदलाजे ने मंगलवार को केन्द्र सरकार की सराहना करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले चार वर्ष में देश को एक भ्रष्टाचार मुक्त और दोष मुक्त शासन प्रदान किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने सफलता पूर्वक चार वर्ष का शासन पूरा किया है और इस अवधि में कोई भी भ्रष्टाचार का काला धब्बा केन्द्र सरकार पर नहीं लगा है।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned