किसानों के साथ धोखाधड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा

किसानों के साथ धोखाधड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा

Shankar Sharma | Publish: Jul, 13 2018 10:48:17 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

किसानों से धोखाधड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। लोक निर्माण मंत्री एचडी रेवण्णा ने यह बात कही।

बेंगलूरु. किसानों से धोखाधड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। लोक निर्माण मंत्री एचडी रेवण्णा ने यह बात कही। रेवण्णा की इस टिप्पणी पर विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार ने कहा कि रेवण्णा को सदन में ऐसी गंभीर घोषणा करने से पहले अच्छी तरह सोच विचार करना चाहिए।

रेवण्णा ने कहा की किसानों से धोखाधड़ी करनेवाला उनका रिश्तेदार होने पर भी वे कार्रवाई करेंगे। विधानसभा में गुरुवार को बजट पर बहस में रेवण्णा ने कहा कि क्षीरधारा योजना तथा पशु आहार उत्पादों के नाम पर किसानों से धोखाधड़ी हो रही है। देहातों में कई दूध उत्पादक सहकारिता संघों के सचिव दूसरों के नाम पर दूध संग्रहित कर दूध उत्पादक किसानों के लिए बनी 5 रुपए प्रति लीटर प्रोत्साहन राशि का दुरुपयोग कर रहे हैं। इस पर अंकुश लगाना होगा।

ऋण माफी योजना से किसान तथा आम आदमी के बीच दरारें
बेंगलूरु. मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने किसानों की ऋणमाफी के नाम पर आम आदमी को परेशान कर किसान तथा आम आदमी के बीच दीवार खड़ी कर दी है। भाजपा के विधायक मधुस्वामी ने यह बात कही।


गुरुवार को विधानसभा में बजट पर बहस में भाग लेते हुए उन्होंने कहा ऋण माफी की घोषणा के बाद शहर के निवासियों पर भार पडऩे से यह लोग किसानों के प्रति आक्रोश व्यक्त कर रहें है। पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने 8 हजार करोड़ की ऋणमाफी की घोषणा कर इस योजना के 3500 करोड़ रुपए का भुगतान बाकी रखा था।


अब कुमारस्वामी ने 34 हजार करोड़ रुपए के ऋणमाफी की घोषणा कर इस योजना के लिए बजट में केवल 6500 करोड़ का आवंटन किया है। ऐसे में यह योजना पूरी होने में पांच वर्षों का समय लग सकता है। मुख्यमंत्री ने बजट में कही पर भी यह स्पष्ट नहीं किया है कि राज्य सरकार 34 हजार करोड़ की ऋण माफी के लिए संसाधन कहां से जुटाएगी। यह योजना केवल किसानों की आंखों में धूल झोंकने की योजना है।

वित्तीय अनुशासन की अनदेखी के कारण राज्य सरकार का ऋणभार अभी 2 लाख 8 6 हजार करोड़ तक पहुंचा है। इस सरकार को इस कर भार से मुक्त करने के मामले में इस बजट में मुख्यमंत्री की चुप्पी चिंताजनक है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned