प्रदेश के सभी जिलों में बनेंगे गांधी भवन: सिद्धरामय्या

प्रदेश के सभी जिलों में बनेंगे गांधी भवन: सिद्धरामय्या
bangalore news

Shankar Sharma | Publish: Oct, 03 2016 11:49:00 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा कि राज्य सरकार ने सभी जिला मुख्यालयों पर गांधी भवन निर्माण के लिए बजट में 90 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा कि राज्य सरकार ने सभी जिला मुख्यालयों पर गांधी भवन निर्माण के लिए बजट में 90 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। जरूरत पडऩे पर सरकार और धन जारी करने को तैयार हैं। ये भवन गांधी की विचारधारा के निरंतर प्रचार के शैक्षणिक, आध्यात्मिक व शोध केंद्र की तरह काम करें।


मुख्यमंत्री ने रविवार को गांधी जयंती पर गांधी भवन में स्मारिका व अंबेडकर की पुस्तक का लोकार्पण करने के बाद कहा कि गांधी के शांति, अहिंसा के सिद्धांतों को विशेष रूप से युवाओं को आत्मसात करना चाहिए।


 गांधी देश के एक महान विचारक होने के साथ ही कथनी व करनी में फर्क नहीं करने वाले महान संत थे। गांधीजी की विचारधारा के जरिए सभी समस्याओं को सुलझाया जा सकता है। सीएम ने कहा कि मार्टिन लूथर किंग ने गांधी को विश्व के लिए अनिवार्य बताते हुए कहा था कि उन्हें भूूलने पर सारे मनुकुल का विनाश हो सकता है। अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने गांधी को समूचे विश्व का नेता बताया। उन्होंने समाज के दबे कुचले लोगों के साथ होने वाले अन्याय व अस्पश्र्यता का निरंतर विरोध किया।


उन्होंने कहा अफसोस है कि आज के नेता महात्मा गांधी को भूूलते जा रहे हैं। महात्मा गांधी की विचारधारा को राजनेताओं तक पहुंचाने में गांधी भवन को परिश्रम करना होगा। राजनेताओं को अपने राजनीतिक जीवन में लेश मात्र के लिए भी सही, गांधी के विचारों का अनुकरण करना चाहिए।  एडॉल्फ हिटलर को हिंसा करने पर पराजय का सामना करना पड़ा लेकिन गांधी ने अहिंसा के सिद्धांत पर चलकर जीत हासिल की।

इस मौके पर  ग्रामीण विकास व पंचायत राज मंत्री एच.के. पाटिल ने ई-गांधी म्युजियम की परिकल्पना को लॉन्च किया। उन्होंने कहा कि ई. गांधी म्युजियम के माध्यम से युवाओं को अधिक आकर्षित किया जा सकता र्है। यह परियोजना अगले 2 अक्टूबर तक पूरी होगी जिसके लिए मुख्यमंत्री को विशेष अनुदान मंजूर करना चाहिए।

मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने एम.एस. शंकर को जयश्री ट्रस्ट पुरस्कार से सम्मानित किया। गांधी शांति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष डा. पुड़े. टी. कृष्णा ने आगन्तुकों का स्वागत किया। गांधी स्मारक निधि के अध्यक्ष श्रीनिवासय्या ने अध्यक्षता की। विधायक ए. सुधाकर, कन्नड़ व संस्कृति विभाग के प्रमुख सचिव उमाशंंकर, सूचना व प्रचार विभाग के निदेशक विशुकुमार भी उपस्थित थे।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned