जून में कृत्रिम वर्षा कराएगी सरकार

जून में कृत्रिम वर्षा कराएगी सरकार

Ram Naresh Gautam | Publish: May, 16 2019 05:00:30 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

  • क्लाउड सीडिंग के लिए 88 करोड़ रुपए का अनुदान

बेंगलूरु. वीडियो कॉन्फ्रेंस के पश्चात मंत्री आरवी देशपांडे तथा कृष्ण बैरेगौड़ा ने संयुक्त पत्रकार वार्ता में कहा कि वर्ष 2019-20 तथा वर्ष 2020-21 के दौरान कृत्रिम बारिश के लिए क्लाउड सीडिंग के लिए 88 करोड़ रुपए का अनुदान जारी करने का फैसला किया गया है।

बारिश के मौसम के दौरान ही राज्य के विभिन्न जिलों में क्लाउड सीडिंग की जाएगी। इसके लिए अगले दो सप्ताह में निविदाएं आमंत्रित की जाएंगी।

इससे पहले वर्ष 2018 के अगस्त-सितम्बर माह में ऐसा प्रयास किया गया था। यह प्रयास विफल रहने के कारण अबकी बार जून-जूलाई माह में ही यह प्रयोग दोहराया जाएगा।

कृष्ण बैरेगौड़ा ने कहा कि बेंगलूरु तथा हुब्बली को केंद्र में रखते हुए क्लाउड सीडिंग की जाएगी। आवश्यकता होने पर एक साथ दो विमानों के माध्यम से इसे अंजाम दिया जाएगा।

इस प्रयोग की सफलता को लेकर पूछे सवाल पर में उन्होंने कहा कि इस प्रयोग से भारी बारिश का दावा तो नहीं किया जा सकता, लेकिन इससे पेयजल तथा मवेशियों के लिए चारे की समस्या का समाधान संभव हो सके इतनी बारिश की अपेक्षा की जा सकती है।

--------

मानसून में विशेष सावधानी बरते कोडुगू प्रशासन
मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कोडुगू जिला प्रशासन को बारिश के मौसम के दौरान विशेष सावधानी बरतने का निर्देश दिया है। बुधवार को आवासीय कार्यालय 'कृष्णा' में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उन्होंने कोडुगू जिलाधिकारी अनीस कण्मणी जॉय से मानसून की तैयारियों का जायजा लिया।

जॉय ने मुख्यमंत्री को बताया की भारतीय मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक इस वर्ष भी कोडुगू जिले में भारी बारिश हो सकती है। इससे भूस्खलन की आशंका बनी रहती है।

उन्होंने कहा कि कोडुगू में आम नागरिकों को बारिश और मौसम की सटीक जानकारी मुहैया कराई जा रही है ताकि वे अफवाहों से बचें। विभाग की ओर से भूस्खलन की संभावना वाले छह क्षेत्रों को चिन्हित किया गया है।

ऐसे क्षेत्रों में बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरण की प्रकिया शुरु की गई है। जिले में मवेशियों की सुरक्षा के लिए अस्थाई गोशालाओं का निर्माण किया जा रहा है।

बाढ़ जैसे हालात में लोगों की सहायता के लिए प्राकृतिक आपादा प्रबंधन के 8 दलों का गठन किया गया है। इन दलों को जून के अंतिम सप्ताह में तैनात किए जाने का प्रस्ताव भेजा गया है।

जलसंसाधन विभाग की ओर से हारंगी बांध में संग्रहित गाद को हटाने का कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है। जिलाधिकारी के अनुसार गत वर्ष के बाढ़ पीडि़तों के पुनर्वास के लिए संपर्क सड़के तथा सभी बुनियादी सुविधाओं के साथ नए मकानों का निर्माण कार्य पूरा हो गया है।

शीघ्र ही इन मकानों का हस्तांतरण किया जाएगा। इस पर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को कहा कि जिन लोगों को मकानों का हस्तांतरण करना है उन्हें इसी माह मकान सौंप दिया जाए ताकि वे बरसात के पहले सुरक्षित आश्रय में चले जाएंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned