शीत सत्र में पेश होगा गो हत्या प्रतिबंधक विधेयक

पशुपालन मंत्री प्रभू चव्हाण बोले

By: Sanjay Kulkarni

Updated: 25 Nov 2020, 08:31 PM IST

बेंगलूरु. पशुपालन मंत्री प्रभु चव्हाण ने कहा कि 7 दिसंबर से शुरू हो रहे विधान मंडल के शीत सत्र में गो हत्या प्रतिबंधक विधेयक पेश किया जाएगा।उन्होंने कहा कि इस विधेयक के संबंध में वे मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा से बात कर चुके हैं। विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी रूपरेखा तय करने के निर्देश दिए गए हैं। अन्य राज्यों के ऐेसे कानून का अध्ययन किया जा रहा है। कानूनविदों से विचार-विमर्श कर विधेयक का मसौदा तैयार किया जा रहा है।

उन्हें यकीन है कि विधानमंडल के दोनों सदनों मे यह विधेयक पारित होगा।उन्होंने कहा कि वर्ष 2010 में भी भाजपा सरकार ने ऐसा विधेयक पारित कर राज्यपाल को भेजा था लेकिन तत्कालीन राज्यपाल हंसराज भारद्वाज ने इस विधेयक पर हस्ताक्षर से इनकार करते हुए इसे राष्ट्रपति भवन को रैफर कर दिया था।

मराठा विकास निगम का विरोध नहीं करने की अपील

बेंगलूरु. कर्नाटक राज्य क्षत्रिय मराठा परिषद ने राज्य के विभिन्न कन्नड़ संगठनों से मराठा विकास निगम के गठन का विरोध नहीं करने और 5 दिसंबर को प्रस्तावित कर्नाटक बंद का ऐलान वापस लेने की अपील की है।परिषद के अध्यक्ष वीएस श्यामसुंदर गायकवाड ने यहां मंगलवार को कहा कि सदियों से कर्नाटक में रहने वाला मराठा समुदाय कर्नाटक का अभिन्न हिस्सा होने के कारण उसके विकास के लिए गठित निगम का विरोध नहीं किया जाना चाहिए।

कर्नाटक में रहनेवाले मराठा समुदाय का महाराष्ट्र से कोई लेना-देना नहीं है। मराठा समुदाय भी कन्नडिग़ा समुदाय है।उन्होंने कहा कि राज्य में इस समुदाय की आबादी 50 लाख से अधिक होने के कारण यह राज्य का चौथा सबसे बड़ा समुदाय है। समुदाय के अधिकतर लोग सामाजिक तथा शैक्षणिक दृष्टि से पिछड़े होने के कारण पिछले कई वर्ष से ऐसे निगम के गठन की मांग हो रही थी।

उन्होंने कहा कि क्षत्रिय मराठा परिषद महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार के सीमा विवाद को लेकर दिए गए बयान का पुरजोर विरोध कर चुकी है। इस मामले में किसी भी हालत में महाराष्ट्र सरकार के रूख का समर्थन नहीं किया जा सकता। इस अवसर पर परिषद के पदाधिकारी जेडी घोरपडे, शंकरराव चव्हाण, श्रीधर राव शिंदे, लक्ष्मण राव चव्हाण उपस्थित थे।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned