मन की खुशी ही स्वास्थ्य का आधार: आचार्य देवेंद्रसागर

  • जयनगर में प्रवचन

By: Santosh kumar Pandey

Published: 14 May 2021, 10:41 PM IST

बेंगलूरु. धर्मनाथ जैन मंदिर, जयनगर में विराजित आचार्य देवेंद्रसागर सूरी ने मानसिक स्वस्थता पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि हर कोई स्वस्थ, सुखी और संपन्न होना चाहता है।

कम लोग जानते हैं कि स्वास्थ्य, सुख और संपन्नता का सबसे बड़ा आधार है मन की खुशी। खुशी अपने आप में एक शक्तिशाली आंतरिक खजाना है। जब व्यक्ति खुश रहता है तो उसके शरीर में स्वास्थ्यप्रद हार्मोंस का स्राव होता है। ये हार्मोंस शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। इसलिए खुशी एक सूक्ष्म दवा है। इसके विपरीत चिंता, भय और आशंका घातक मर्ज है जिनके चलते, शरीर के अंदर जहरीले रसायन का स्राव होता है।

उन्होंने कहा कि आज कोरोना काल में यही हो रहा है। कोरोना वायरस जितना घातक नहीं, उससे कई गुना खतरनाक उसकी संभावना से फैल रही चिंता और आशंका है। यह इंसान की रोग प्रतिरोधक शक्ति को क्षीण कर रही है जिससे वह कोरोना का सहज शिकार हो रहा है। आचार्य ने कहा कि वर्तमान में जीना सीख लें तो बाकी का काम आसान हो जाता है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned