फफक-फफक कर रो पड़े सीएम, अंतिम घड़ी तक किया रोड शो

लोकसभा की मंड्या सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार सुमालता अंबरीश के साथ चुनावी संघर्ष में फंसे अपने पुत्र निखिल की जीत के लिए मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने चुनाव प्रचार समाप्त होने की अंतिम घड़ी तक रोड शो किया। इस दौरान उन्होंने मतदाताओं से बेटे निखिल के लिए भावुक अपील की।

By: Santosh kumar Pandey

Published: 17 Apr 2019, 06:10 PM IST

बेंगलूरु. लोकसभा की मंड्या सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार सुमालता अंबरीश के साथ चुनावी संघर्ष में फंसे अपने पुत्र निखिल की जीत के लिए मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने चुनाव प्रचार समाप्त होने की अंतिम घड़ी तक रोड शो किया। इस दौरान उन्होंने मतदाताओं से बेटे निखिल के लिए भावुक अपील की।

मंड्या सीट के लिए पहले चरण में 18 अप्रेल को मतदान होगा। प्रचार के दौरान कुमारस्वामी फिर भावुक हो गए और अपने आंसू जनता के सामने नहीं छिपा पाए और रोने लगे। उन्होंने कहा कि मीडिया में उनके बारे में दुष्प्रचार फैलाया जा रहा है। कहा जा रहा है कि ‘मेरा यह आखिरी दिन है।’ ऐसा कहते वक्त सीएम कुमारस्वामी भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि मीडिया के एक वर्ग में उनके बारे में तमाम झूठी खबरें चलाई जा रहीं हैं और भ्रामक खबरें फैलाई जा रही हैं। कुमारस्वामी ने कहा कि अंबरीश को उनकी वजह से पहचान मिली, लेकिन आज अंबरीश का परिवार ही उनके खिलाफ है, इसका उन्हें बेहद दुख है। सुमालता यह कहती हुई सुनी जा रही हैं कि जद-एस चोरों की पार्टी है। उन्होंने कहा कि सिर्फ जनता की बदौलत मुख्यमंत्री बने हैं। हालांकि, यह पहला मौका नहीं है कि किसी सार्वजनिक मंच पर कुमारस्वामी भावुक हुए हों। पहले भी कई दफा ऐसा हो चुका है।

यहां तक कि उनके पिता पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा भी मीडिया के सामने भावुक होकर रो चुके हैं। मंड्या क्षेत्र के थग्गाहल्ली ने जन समूह को संबोधित करते हुए कुमारस्वामी ने आरोप लगाया कि मंड्या में निखिल को पटखनी देकर विपक्षी भाजपा के नेता गठबंधन सरकार को गिराने के सपने देख रहे हैं। कुमारस्वामी ने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार ने मंड्या के मैसुगर चीनी कारखाने के गोदाम में रखी चीनी बेचने की अनुमति नहीं दी है। उन्होंने वादा किया कि वे इस रुग्ण चीनी कारखाने का पुनरुद्धार करके इसे फिर से चालू करेंगे।

कुमारस्वामी ने गन्ना किसानों को गन्ने की बकाया रकम का भुुगतान नहीं किए जाने के मामले में कहा कि केन्द्र सरकार ही इसके लिए जिम्मेदार है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned