केंद्रीकृत बिस्तर आवंटन प्रणाली को लेकर गंभीर नहीं स्वास्थ्य विभाग : डॉ. प्रसन्ना

- चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने कहा एक सप्ताह बाद नहीं होगी मरीजों को समस्या

By: Nikhil Kumar

Published: 07 Jul 2020, 07:11 PM IST

बेंगलूरु. प्राइवेट हॉस्पिटल्स एंड नर्सिंग होम्स एसोसिएशन (The Private Hospitals and Nursing Homes Association) ने 2370 बिस्तरों की सूची गत सोमवार को स्वास्थ्य विभाग को सौंप दी थी। स्वास्थ्य आयुक्त पंकज कुमार पांडे के कार्यालय में हुई बैठक में इस बात पर भी सहमति बनी थी कि सरकारी हो या निजी अस्पताल, केंद्रीय नोडल एजेंसी बिस्तर आवंटित करेगी।

पीएचएएनए (PHANA) के अध्यक्ष डॉ. प्रसन्ना एच.एम. ने सोमवार को बताया कि बिस्तर सौंपने के बावजूद स्वास्थ्य विभाग ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। यही कारण है कि मरीज एक से दूसरे अस्पताल बिस्तर की तलाश में भटकने पर मजबूर हैं। मरीजों को परेशानी हो रही है। स्वास्थ्य विभाग ने केंद्रीकृत आवंटन प्रणाली (Centralized allocation system) ठीक से लागू की होती तो यह स्थिति पैदा नहीं होती।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. सुधाकर ने कहा कि कुछ दिन में सब कुछ ठीक हो जाएगा। मरीजों को भटकना नहीं पड़ेगा। निजी अस्पतालों से 50 फीसदी बिस्तर सरकार को देने की बात हुई है। सरकार को बताए बिना खुद निजी अस्पताल पहुंचने वाले कोरोना पॉजिटिव मरीजों को परेशानी जरूरी हुई है। करीब एक सप्ताह में केंद्रीय नोडल एजेंसी बिस्तर आवंटित करेगी।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned