विकराल हुई बाढ़, अब तक 11 की मौत

विकराल हुई बाढ़, अब तक 11 की मौत

Santosh Kumar Pandey | Publish: Aug, 08 2019 09:38:00 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

  • 43 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया
  • सेना की मदद से बचाव कार्य जारी

 

बेंगलूरु. भारी बारिश व जलाशयों के उफान पर होने से उत्तर कर्नाटक के कृष्णा नदी घाटी क्षेत्र में बाढ़ के हालात और विकराल हो गए हैं। कृष्णा और उसकी सहायक नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। राज्य के दक्षिणी और तटीय क्षेत्रों में भी लगातार बारिश से कई जिलों में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित है।मैसूरु जिले में कबिनी बांध के निचले हिस्सों में बाढ़ की चेतावनी जारी कर दी गई है।बाढ़ और वर्षाजनित हादसों में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है।करीब 30 हजार से अधिक मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

महाराष्ट्र के जलाशयों से भारी मात्रा में छोड़े जा रहे पानी से बेलगावी, बागलकोट, कलबुर्गी, यादगीर, विजयपुर जिलों तक ही बाढ़ का प्रकोप था, लेकिन पिछले कुछ दिन से तटीय व पहाड़ी जिलों में भी स्थिति चिंताजनक हो गई है।बेलगावी जिले के गोकाक में बाढ़ का पानी बढऩे से यह कस्बा टापू में तब्दील हो गया है। बेलगावी के ही अथणी तहसील के 21 गांव बाढ़ के पानी से घिर गए हैं।

उधर, कोडुगू जिले में दक्षिण-पश्चिम मानसून की बारिश ने कई आबादी क्षेत्रों को शेष भू-भाग से अलग-थलग कर दिया है। मडिकेरी को विराजपोट से जोडऩे वाले पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। दोनों कस्बों के बीच संपर्क टूट गया है। चारमाडी घाट सेक्शन में चार स्थानों पर भू-स्खलन से वाहनों का आवागमन रोका गया है।

जल्द राहत की उम्मीद नहीं
महाराष्ट्र के कोयना सहित अन्य जलाशयों से और पानी छोडऩे की संभावनाओं के चलते उत्तर कर्नाटक में हालात और बिगडऩे का अंदेशा है। स्कूल, कॉलेजों में 1५ अगस्त तक अवकाश घोषित किया गया है। सीइटी के माध्यम से इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम में प्रवेश शुल्क के भुगतान की अवधि बढ़ा दी गई है। सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, अग्निशमन बल के जवान के साथ कुछ एनजीओ के सदस्य राहत और बचाव कार्य में जुटे हैं। सेना की मदद से बचाव कार्यजारी है और अब तक 43 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है।

उत्तर कर्नाटक के कई स्थानों में बाढ़ के हालात इतने गंभीर हैं कि पुनर्वास केन्द्रों में भी पानी घुस गया है। हजारों एकड़ में फसलें को नुकसान पहुंचा है। गोवा, मुंबई व बेलगावी के बीच रेल संपर्क पिछले तीन दिनों से टूटा हुआ है।
मौसम विभाग के अनुसार महाराष्ट्र में कृष्णा व उसकी सहायक नदियों के प्रवाह क्षेत्रों में बारिश का दौर जारी रहने से बाढ़ के हालात गंभीर हो सकते हैं।उधर, केरल के वायनाड जिले में कबिनी नदी के प्रवाह क्षेत्र में भारी बारिश से कबिनी जलाशय से करीब 8 5 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। नदी के किनारे बसी आबादी को सुरक्षित स्थानों पर जाने की चेतावनी दी गई है।

मौके पर पहुंचे सीएम, लिया जायजा
बेलगावी में बाढ़ के हालात बिगडऩे से मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा तमाम कार्यक्रम निरस्त कर बेलगावी पहुंचे हैं।उन्होंने अधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति की जानकारी ली।वे अगले ३ दिन तक राहत व बचाव कार्य की निगरानी करेंगे। बाढ़ प्रभावित जिलों के जिलाधिकारियों ने लोगों को सुरक्षित स्थानों पर चले जाने को कहा है। उफनाती नदियों से दूर रहने और जिन पुलों के ऊपर से पानी बह रहा है, उन्हें पार नहीं करने को कहा गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned