प्राइमरी कॉन्टैक्ट को मधुमेह, अस्थमा, उच्च रक्तचाप व एचआइवी हो तो भर्ती करने के निर्देश

12वें दिन सभी प्राइमरी कॉन्टैक्ट के नमूने जांच के लिए भेजे जाएंगे। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर संबंधित को कोविड अस्पताल में भर्ती किया जाएगा।

By: Nikhil Kumar

Published: 08 Apr 2020, 09:37 PM IST

बेंगलूरु. प्रदेश सरकार की नीति के अनुसार पॉजिटिव मरीजों के प्राइमरी कॉन्टैक्ट संस्थागत क्वारेंटइन केंद्रों में रखे जाएंगे। प्राइमरी कॉन्टैक्ट के मधुमेह, अस्थमा, उच्च रक्तचाप व एचआइवी आदि के मरीज होने की स्थिति में इन्हें अस्पताल में भर्ती करने के निर्देश हैं। जबकि निम्न जोखिम वालों को होटल या फिर उनके घरों में अलग रखा जाएगा। 12वें दिन सभी प्राइमरी कॉन्टैक्ट के नमूने जांच के लिए भेजे जाएंगे। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर संबंधित को कोविड अस्पताल में भर्ती किया जाएगा।

लेकिन कई जिला आयुक्त व जिला स्वास्थ्य अधिकारियों ने सवाल किया है कि उन लोगों के साथ क्या किया जाए जो क्वारंटाइन में हैं लेकिन जांच रिपोर्ट निगेटिव आई हो। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के आयुक्त पंकज कुमार पांडे के अनुसार ऐसे लोग अगले दो सप्ताह तक उनके घरों में सख्त निगरानी में रखे जाएंगे। समय-समय पर निगरानी दल इनके घरों का दौरा कर स्वास्थ्य विभाग को रिपोर्ट भेजेगी। इन 14 दिनों में संदिग्ध लक्षण सामने आने पर दोबारा जांच होगी। ऐसे लोगों की जिम्मेदारी है कि वे क्वारंटाइन नियमों का पालन करें नहीं तो कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है।

Show More
Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned