scriptHijab: Peace in campuses but controversy persists | हिजाब : परिसरों में शांति मगर विवाद बरकरार | Patrika News

हिजाब : परिसरों में शांति मगर विवाद बरकरार

  • प्री-यूनिवर्सिटी की कई छात्राओं ने हिजाब के साथ पढ़ाई जारी रखने की मांग की

बैंगलोर

Published: February 18, 2022 11:43:13 am

बेंगलूरु. राज्य में गुरुवार को भी कई कॉलेजों और आसपास तनावपूर्ण स्थिति बनी रही। प्री-यूनिवर्सिटी की कई छात्राओं ने हिजाब के साथ पढ़ाई जारी रखने की मांग की। लेकिन, छात्राओं को वापस भेज दिया गया। छात्राओं और अभिभावकों ने कॉलेज के बाहर प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन किया।
बेलगावी जिले में विजय पारा मेडिकल कॉलेज के पास हिजाब पहने छात्राओं के समर्थन में आए छह लोगों को हिरासत में लिया गया। कॉलेज के सामने जमा लोगों ने धार्मिक नारे लगाए और मांग की कि हिजाब पहनने वाली छात्राओं को कक्षाओं के अंदर जाने दिया जाए।

हिजाब : परिसरों में शांति मगर विवाद बरकरार
file photo

परीक्षा देने से किया इनकार
रामनगर जिले के जिलाधिकारी राकेश कुमार ने निषेधाज्ञा जारी कर जिले में कक्षाएं रद्द कर दीं। प्रथम ग्रेड पीयूसी कॉलेज प्रशासन को 19 फरवरी तक ऑनलाइन कक्षाएं लेने को कहा गया है। विजयपुर में सरकारी महिला पीयू कॉलेज के 20 से अधिक छात्रों ने हिजाब उतारकर परीक्षा देने से इनकार कर दिया। स्थानीय पुलिस ने कॉलेज के 200 मीटर के दायरे में निषेधाज्ञा लगा दी और कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

हुब्बली-धारवाड़ में 28 तक निषेधाज्ञा
हुब्बली-धारवाड़ में स्कूल-कॉलेज के आसपास धारा 144 को 28 फरवरी तक बढ़ा दिया गया है। इस दौरान किसी भी विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं है। निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। इस बीच, हुब्बल्ली आट्र्स एंड कॉमर्स कॉलेज में एक दिन की छुट्टी की घोषणा की गई है।

20 छात्राओं को भेजा घर
शिवमोग्गा डीवीएस कॉलेज में उस समय तनाव व्याप्त हो गया जब 20 से अधिक हिजाब पहने छात्रों ने कॉलेज के अंदर घुसने की कोशिश की। पुलिस और कॉलेज प्रशासन ने उन्हें वापस भेज दिया।

प्रैक्टिकल परीक्षा स्थगित
उडुपी एमजीएम कॉलेज ने भी गुरुवार को होने वाली रसायन विज्ञान की प्रैक्टिकल परीक्षा स्थगित कर दी। बल्लारी के के सरला देवी कॉलेज के सामने बुर्का के साथ प्रवेश की अनुमति नहीं दिए जाने पर छात्राओं और अभिभावकों ने धरना दिया। कॉलेज परिसर में घुसने से रोकने पर छात्रों की पुलिस से बहस हो गई। बेलागवी आरएलएस कॉलेज, कोप्पल कॉलेज, बल्लारी वीरशैव महिला कॉलेज से हिजाब पहने छात्रों को वापस भेजा गया।
धार्मिक नारा लगाने वाली छात्रा अनुपस्थित

मंड्या जिले में पीइएस कॉलेज ऑफ आट्र्स, साइंस एंड कॉमर्स में धार्मिक नारे लगाने वाली छात्रा गुरुवार को कॉलेज नहीं आई। कुछ दिनों पहले बुर्का पहनने पर कॉलेज परिसर में भीड़ ने उसे घेर लिया था। छात्रा ने अकेले ही भीड़ का सामना किया था।

60 छात्राओं ने किया कक्षाओं का बहिष्कार
उडुपी में सरकारी जी. शंकर मेमोरियल महिला फस्र्ट ग्रेड डिग्री कॉलेज के अंतिम वर्ष के लगभग 60 छात्राएं गुरुवार को कॉलेज अधिकारियों द्वारा हिजाब उतारने के लिए कहने के बाद घर लौट गईं। हालांकि, छात्राओं का कहना था कि मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के अनुसार डिग्री कॉलेजों में डे्रस कोड निर्धारित नहीं है। इसलिए उन्हें शिक्षा से वंचित नहीं किया जा सकता। कॉलेज प्रबंधन ने लड़कियों को बताया कि कॉलेज विकास समिति ने नियम निर्धारित किए हैं। सभी को इसका पालन करना होगा। लेकिन, लड़कियों ने यह कहते हुए मना कर दिया कि शिक्षा के साथ हिजाब भी उनके लिए जरूरी है। सभी ने कॉलेज प्रबंधन ने हिजाब प्रतिबंध पर लिखित आदेश दिखाने की मांग भी की। छात्राओं ने कॉलेज प्रबंधन से उच्च न्यायालय का फैसला आने तक उनके लिए ऑनलाइन कक्षाएं शुरू करने की अपील की।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.