गर्भवती के कोरोना पॉजिटिव मिलने से अस्पताल में हड़कंप

महिला प्रसव के करीब थी और उसके पॉजिटिव होने की जानकारी नहीं थी। जांच के लिए थ्रोट स्वाब भेजे गए हैं और रिपोर्ट का इंतजार है।

By: Nikhil Kumar

Published: 10 May 2020, 12:30 AM IST

बेंगलूरु. वाणी विलास अस्पताल (Vani Vilas Hospital) में भर्ती एक गर्भवती महिला (Pregnant women found Positive for Corona Virus in Bengaluru) में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद अस्पताल में शनिवार को अफरा-तफरी का माहौल रहा।

बेंगलूरु मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट की निदेशक डॉ. सी. आर. जयंती ने बताया कि पादरायणपुर की 20 वर्षीय महिला मरीज (पी-765) एक अन्य मरीज के साथ शुक्रवार सुबह करीब 11.30 बजे अस्पताल आई थी। पी-765 के साथ आई महिला कोरोना पॉजिटिव थी इसलिए उसे विक्टोरिया कोविड अस्पताल में भर्ती किया गया। पी-765 के असिम्पटोमेटिक होने के कारण उसे वाणी विलास में ही रखा गया। महिला प्रसव के करीब थी और उसके पॉजिटिव होने की जानकारी नहीं थी। जांच के लिए थ्रोट स्वाब भेजे गए हैं और रिपोर्ट का इंतजार है।

अस्पताल की एक नर्स ने बताया कि जब तक महिला के पॉजिटिव होने की बात सामने आई, तब तक अस्पताल के कई कर्मचारी उसके संपर्क में आ चुके थे। सभी को क्वारंटाइन किया गया है। अस्पताल के कर्मचारियों का कोरोना पॉजिटिव मरीज के साथ यह पहला अनुभव था।

वाणी विलास की चिकित्सा अधीक्षक डॉ. गीता शिवमूर्ति ने बताया कि लॉकडाउन के समय से ही यहां कोरोना संदिग्ध महिला मरीज और बच्चे आते रहे हैं। इनमें इन्फ्लूएंजा, बुखार और सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इंफेक्शन (एसएआरआइ) के लक्षण वाले मरीज भी हैं। गत 40 दिनों में अस्पताल में 1300 से ज्यादा प्रसव और 512 सीजेरियन प्रसव हुए हैं। 200 से ज्यादा मरीजों को कोरोना वायरस के लिए जांचा गया है। शुक्रवार से पहले तक एक भी मरीज पॉजिटिव नहीं निकली थी। उन्होंने बताया कि अस्पताल में फिलहाल कोरोना के संदिग्ध लक्षण वाली 12 महिलाएं भर्ती हैं। सभी ने कुछ दिनों पहले ही बच्चा जन्मा है।

कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन
इन सबके बीच अस्पताल के कुछ चिकित्सकों, नर्सों व अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों ने स्वास्थ्य विभाग व चिकित्सा शिक्षा विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया। इनके अनुसार अस्पताल में पीपीइ और मास्क उपलब्ध नहीं है। अस्पताल प्रबंधन चिकित्सकों व कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर उदासीन है। कुछ कर्मचारियों ने मांग की है कि संदिग्ध मरीजों के लिए अस्पताल में विशेष दल गठित की जाए। अस्पताल में मरीजों की सं या बढ़ी है। कई मरीज हॉट स्पॉट क्षेत्रों से होते हैं। कोविड मरीजों के लिए अस्पताल में पर्याप्त व्यवस्था नहीं है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned