घर पर मृत मिले आईएमए घोटाले में रिश्वत लेने के आरोपी आईएएस अधिकारी

  • 4,000 करोड़ रुपए के आईएमए घोटाले (IMA scam) में रिश्वत लेने का आरोप
  • SIT ने पिछले साल किया था गिरफ्तार

By: Santosh kumar Pandey

Published: 24 Jun 2020, 04:37 PM IST

बेंगलूरु. चर्चित आईएमए घोटाले (IMA scam) में आरोपी आईएएस अधिकारी बी एम विजय शंकर (Former Deputy Commissioner of Bengaluru Urban Vijay Shankar) मंगलवार रात जयनगर में अपने आवास पर मृत मिले हैं। विजय शंकर को एक बार गिरफ्तार किया गया था। अब सीबीआई 4,000 करोड़ रुपये के आईएमए पोंजी घोटाले में शंकर के खिलाफ मुकदमा चलाना चाहती थी।

बता दें कि बेंगलूरु शहरी जिले के पूर्व डिप्टी कमिश्नर विजय शंकर पर आईएमए पोंजी घोटाले पर पर्दा डालने के लिए कथित रूप से रिश्वत लेने का आरोप लगा था।

एसआईटी ने पिछले साल किया था गिरफ्तार

विजय शंकर को पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार की ओर से 2019 में गठित एक विशेष जांच दल (SIT)ने गिरफ्तार किया था। बाद में सत्ता में आई भाजपा सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी।

सीबीआई ने मांगी थी मुकदमा चलाने की अनुमति

बताया जाता है कि हाल ही में सीबीआई ने इस मामले में शंकर और दो अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए राज्य सरकार से अनुमति मांगी थी।

बता दें कि मोहम्मद मंसूर खान ने 2013 में भारी मुनाफे का वादा करते हुए पोंजी स्कीम शुरू की थी। यह मामला उसी से जुड़ा है। जांच में पता चला था कि खान की अध्यक्षता वाले आईएमए समूह ने निवेशकों से 4,000 करोड़ रुपयों से अधिक की राशि जमा की थी। मामले का मुख्य आरोपी खान दुबई भाग गया था जिसे पिछले साल भारत लौटने पर गिरफ्तार किया गया था। खान के साथ आईएमए समूह के कुछ अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned