परिवार के केन्द्र में भगवान हों तो घर नहीं टूटेगा: संत मेहता

  • हनुमान चालीसा हनुमान से जुडऩे का सबसे सरल माध्यम

By: Santosh kumar Pandey

Published: 23 Feb 2021, 07:14 PM IST

बेंगलूरु. एकल हरि सत्संग समिति, बेंगलूरु चैप्टर द्वारा आयोजित एक शाम हनुमान के नाम कार्यक्रम हरियाणा भवन में आयोजित किया गया।
एकल श्रीहरि के अध्यक्ष सुरेश मोदी ने अपने अध्यक्षीय भाषण में बेंगलूरु चैप्टर द्वारा किए गए कार्यों की रिपोर्ट प्रस्तुत की व स्वागत किया।

संत विजय शंकर मेहता ने हनुमान के माध्यम से परिवार प्रबंधन की कला सिखाई। उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में भारत जैसी परिवार व्यवस्था कहीं नहीं है। लेकिन अब हमारे परिवारों पर भी विघटन और घुटन की दस्तक शुरू हो गई है। 15-20 साल बाद जब हमारे पास भौतिक विकास के सारे आयाम होंगे, तब कहीं हम परिवारों से हाथ ना धो बैठें।

उन्होंने कहा कि परिवार के केन्द्र में भगवान हों और परिधि पर संसार रहे तो परिवार कभी नहीं टूटेगा। बजरंग बली ब्रह्मचारी होते हुए भी गृहस्थ के देवता हैं। हनुमान से जुडऩे के लिये सबसे सरल माध्यम है हनुमान चालीसा। गोस्वामी तुलसीदास ने हनुमान चालीसा में परिवार प्रबंधन के अद्भुत सूत्र लिखे हैं।

समिति के राष्ट्रीय महासचिव अनिल ने समिति के 25 वर्ष पूर्ण होने पर दिल्ली में 6 व 7 मार्च को आयोजित होने वाले समारोह की जानकारी दी। संयोजक सचिन पांडिया ने आभार व्यक्त किया।

समिति के संरक्षक देवेन्द्र सोनी, कार्यकारिणी सदस्य कांता सोमानी, सुनीता मालपानी, एकल परिवार बेंगलूरु से विमल सरावगी ,सुचिता अग्रवाल, सरिता भंसाली, सविता अग्रवाल, सीता गोयल सहित सामाजिक संस्थाओं के गणमान्य लोग उपस्थित थे। प्रायोजक मोहन लाल सोमानी का सम्मान किया गया।

संचालन आदित्य शुक्ल ने किया। सचिव संजय अग्रवाल ने आभार व्यक्त किया ।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned