हम सुखी तो जीवन भी सुखी-साध्वी शीतलगुणाश्री

धर्मसभा का आयोजन

By: Yogesh Sharma

Published: 14 Jun 2021, 09:38 PM IST

बेंगलूरु. फ्रेजरटाउन स्थित मरुधर केसरी जैन भवन में विराजित साध्वी भव्यगुणाश्री व साध्वी शीतलगुणाश्री ने कहा कि जैसे हम हैं, वैसा ही हमारा जीवन होगा। यदि हम सुखी हैं, तो हमारा जीवन भी सुखी होगा और यदि हम दु:खी हैं, तो सारा संसार दु:खमय प्रतीत होगा। साध्वी शीतलगुणा ने कहा कि यदि हमारी मनोदशा भी सुख अनुभव करने लगे तथा सोचने लगे कि यह दु:ख हमें केवल अपने जीवन स्तर की सीढिय़ों पर चढऩे के लिए परीक्षार्थ ही मिला करता है, तो हमें दु:ख की छाया छू भी नहीं सकती। जब हम इस प्रकार अनुभव करने लगेंगे, तब वास्तव में हम दु:ख को सुख में बदल सकेंगे और अध्यात्म-तत्व की ओर अग्रसर होकर दूसरों के दु:ख को भी सुख में बदल सकेंगे। ऐसा करने के लिए हमें त्याग व तपस्या की आवश्यकता पड़ती है, जिसकी प्रतिक्रिया आत्मा पर होती है। यदि हमारी आत्मा इन सबको सहन कर लेती है, तो वास्तव में हममें एक आध्यात्मिक शक्ति का विकास होता है, जिसका निर्माण हम अपने विचारों द्वारा ही कर सकते हैं। पुष्य नक्षत्र के शुभ योग में श्रीयंत्र महापूजन का लाभ वसंतराज पारस भंसाली परिवार ने लिया। हस्तीमल, कमलचंद, अनिल कुमार, सुनिल कुमार हार्दिक बाफना परिवार, गौतमचंद डांगी, सुनील कुमार नाहर, गणपतराज बोहरा, संदीप कुमार दोशी, दीपक कुमार ओस्तवाल, किशोर कुमार दूधेडिय़ा ने प्रवचन का लाभ लिया।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned