मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कहा, शिक्षा के क्षेत्र में बेलगावी जिले का महत्वपूर्ण योगदान

मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कहा, शिक्षा के क्षेत्र में बेलगावी जिले का महत्वपूर्ण योगदान

Shankar Sharma | Publish: Sep, 16 2018 09:50:02 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा है कि कुंदानगरी के नाम से पहले से प्रसिद्ध बेलगावी जिले ने स्वतंत्रता आंदोलन व शिक्षा में उत्तर कर्नाटक के लिए अपार योगदान दिया है।

हुब्बल्ली. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा है कि कुंदानगरी के नाम से पहले से प्रसिद्ध बेलगावी जिले ने स्वतंत्रता आंदोलन व शिक्षा में उत्तर कर्नाटक के लिए अपार योगदान दिया है। कुमारस्वामी, शहर के केएलई शिक्षण संस्था के विधि महाविद्यालय के हीरक जयंती महोत्सव को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि कित्तूर रानी चन्नम्मा, संगोल्ली रायण्णा इसी जिले के हैं। सुवर्ण सौधा निर्माण के लिए बेलगावी में मैंने ही शिलान्यास किया था। बेलगावी से मेरा गहरा रिश्ता है। उन्होंने कहा कि यहां पढ़ाई करने वाले विद्यार्थी हर क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रहे हैं। उन्होंने खेल, कानून समेत कई उपलब्धियां हासिल की हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को विशेष धन्यवाद अर्पित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कोडुगू मेें बाढ़ के दौरान राष्ट्रपति ने फोन करके कोडुगू जिले की बाढ़ के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त की। साथ ही उन्होंने फोन काल के जरिए पूरी मदद का आश्वासन दिया था।

गणेश विसर्जन के लिए वैकल्पिक व्यवस्था
धारवाड़. गणेश की मूर्तियों के विसर्जन के लिए जिला प्रशासन की ओर से वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। पर्यावरण अधिकारी विजयकुमार कडक़भावी ने बताया कि गणेश चतुर्थी पर्व को अत्यंत धूमधाम से मनाने की परंपरा हर परिवार में है। त्योहार मनाने के पश्चात विविध प्रकार के गणेश की मूर्तियों को शोभायात्रा के रूप में ले जाकर पास के तालाब, कुएं, नदी आदि जलस्रोतों में विसर्जन करने की प्रथा है।


उन्होंने कहा कि प्लास्टर ऑफ पेरिस से तैयार किए गए गणेश की मूर्तियों की बिक्री तथा विसर्जन करने पर कर्नाटक सरकार ने प्रतिबंध लगाया है। इसके चलते पर्यावरण स्नेही (ईको फ्रेंड्ली) मिट्टी की गणेश मूर्तियों को भी किसी प्रकार के जलस्रोतों में विसर्जन नहीं करने के निर्देश दिए गए हैं।

ईको फ्रेंड्ली मिट्टी की गणेश की मूर्तियों को विविध जलस्रोतों में विसर्जन कर वहां के पर्यावरण तथा जल प्रदूषण की रोकथाम की दिशा में कर्नाटक राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल ने जनता के सहभागिता से लोगों के हित तथा पर्यावरण संरक्षण के लिए अस्थाई रूप से विसर्जन की व्यवस्था की गई है। हुब्बल्ली-धारवाड़ जुड़वां शहर में 17 सितम्बर की शाम 6 बजे से मोबाइल विसर्जन वाहनों की व्यवस्था की गई है। आमजन पर्यावरण स्नेही मिट्टी की गणेश की प्रतिमाओं को मंडल की ओर से नियोजित मोबाइल वाहनों का उपयोग कर उन्हीं में विसर्जन जलस्रोतों को प्रदूषण से बचाना चाहिए।


...धारवाड़ में मोबाइल विसर्जन वाहन
उन्होंने कहा कि मोबाइल विसर्जन वाहन धारवाड़ के गांधीनगर, माळमड्डी, रायरमठ तथा होसयल्लापुर, श्रीनगर, सप्तापुर, जयनगर आदि इलाकों में 17 सितम्बर की शाम 6 से रात्रि 10 बजे तक उपलब्ध रहेंगे।


...हुब्बल्ली में मोबाइल विसर्जन वाहन
उन्होंने कहा कि हुब्बल्ली शहर के विद्यानगर, शिरूर पार्क, नवनगर, उणकल, बैलप्पनवर नगर, भवानी नगर, देशपांडे नगर तथा विजयनगर आदि इलाकों में 17 सितम्बर की शाम 6 से रात्रि 10 बजे तक मोबाइल विसर्जन वाहन घूमेंगे। लोगों को इस व्यवस्था का उपयोग कर प्रदूषण से जलस्रोतों का संरक्षण करना चाहिए।

Ad Block is Banned