सेना का फर्जी अधिकारी गिरफ्तार

मंजूनाथ खुद को भारतीय सेना का जूनियर कमिशंड अधिकारी बताता था। वह सेना की यूनिफॉर्म पहनता था। छापेमारी के दौरान घर से स्कैन किया हुआ भारतीय सेना का फर्जी पहचान पत्र, फर्जी रबर स्टैंप और भारतीय सेना का आईडी कार्ड भी बरामद हुआ।

By: Nikhil Kumar

Published: 27 Nov 2019, 04:35 PM IST

सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर ऐंठता था लाखों रुपए

मेंगलूरु.

खुफिया अधिकारी मेजर स्वाति श्रीवल्ली धारवाड़कर की अगुवाई में सैन्य खुफिया एजेंसी और एसीपी दस्ता (मेंगलूरु उत्तर डिविजन) ने एक संयुक्त ऑपरेशन में मंजूनाथ रेड्डी (Manjunath Reddy) नामक एक व्यक्ति को सुरतकल के एक घर से गिरफ्तार किया है। मंजूनाथ खुद को भारतीय सेना का जूनियर कमिशंड अधिकारी (Junior Commissioned Officer) बताता था। वह सेना की यूनिफॉर्म पहनता था। पुलिस आयुक्त डॉ. हर्षा ने मंगलवार को बताया कि सुरतकल पुलिस ने भारतीय दण्ड संहिता (आईपीसी) की धारा 171, 419 और 420 के तहत मंजूनाथ के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

मंजूनाथ सुरतकल स्थित लॉर्ड कृष्ण एस्टेट (Lord Krishna Estate) के एक किराए के मकान में रहता था। छापेमारी के दौरान घर से स्कैन किया हुआ भारतीय सेना का फर्जी पहचान पत्र, फर्जी रबर स्टैंप और भारतीय सेना का आईडी कार्ड भी बरामद हुआ।

डॉ. हर्षा ने बताया कि मंजूनाथ के अनुसार वह मराठा लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंटल सेंटर, बेलगावी (Maratha Light Infantry Regimental Centre, Belgaum) में असैनिक कर्मचारी (civil employee) के रूप में काम करता था। वहीं से उसने यूनिफॉर्म खरीदा था। सेवानिवृत्त और शहीद सेना के जवानों के परिवारों के लिए सम्मान समारोह आदि का आयोजन करता था। धीरे-धीरे उसने लोगों का भरोसा जीता।

मंजूनाथ ने भारतीय सेना (Indian Army) में नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से लाखों रुपए ऐंठे हैं। सैन्य खुफिया एजेंसी और पुलिस को शक है कि मंजूनाथ किसी बड़े गिरोह का हिस्सा है जो सेना में नौकरी दिलाने के नाम लोगों को ठगने का काम कर रहा है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned