रूस में भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों का प्रशिक्षण फिर शुरू

अंतरिक्ष नौचालन के बुनियादी सिद्धांतों के बारे में बता रहे विशेषज्ञ
रूसी भाषा भी सीख रहे हैं भारतीय अंतरिक्ष यात्री
कोरोना लॉकडाउन के कारण मार्च अंत से बंद था प्रशिक्षण

By: Rajeev Mishra

Published: 23 May 2020, 04:58 PM IST

बेंगलूरु.
देश के पहले मानव अंतरिक्ष मिशन 'गगनयान' के लिए चयनित चार भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों का रूस में फिर से प्रशिक्षण शुरू हो गया है। कोरोना लॉकडाउन के कारण मार्च महीने के अंत से प्रशिक्षण रुका हुआ था।

रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमॉस ने एक बयान जारी कर कहा है कि गागरिन रिसर्च एंड टेस्ट कोस्मोनॉट ट्रेनिंग सेंटर (जीसीटीसी) में भारत के चयनित चार अंतरिक्ष यात्रियों का प्रशिक्षण 12 मई से शुरू हो गया। सभी भारतीय अंतरिक्ष यात्री स्वस्थ हैं। जीसीटीसी कोरोना महामारी के मद्देनजर हर मानदंडों का लगातार पालन कर रहा है। इसके तहत स्वच्छता और स्वास्थ्य को प्राथमिकता दी जा रही है। सामाजिक दूरी कायम रखने के लिए कदम उठाए गए हैं। किसी भी अनधिकृत व्यक्ति की केंद्र में उपस्थिति वर्जित है। प्रशिक्षण केंद्र में सभी कर्मचारियों और अंतरिक्षयात्रियों को चिकित्सकीय मास्क और दस्ताने पहनना अनिवार्य किया गया है।

रॉसकॉसमॉस ने यह भी कहा है कि जीसीटीसी के विशेषज्ञ भारतीय अंतरिक्षयात्रियों को इस सप्ताह अंतरिक्ष नौचालन (एस्ट्रोगेशन) के बुनियादी सिद्धातों के बारे में बता रहे हैं। इसके लिए कक्षाएं आयोजित की जा रही हैं। उन्हें मानव युक्त अंतरिक्षयान के नियंत्रण से जुड़ी मूल बातें बताई जा रही हैं और रूसी भाषा सिखाई जा रही है।

भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों के प्रशिक्षण के लिए रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉस्मॉस की अनुषंगी इकाई ग्लावकॉस्मॉस और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की इकाई मानव अंतरिक्ष उड़ान केंद्र (एचएसएफसी) के बीच करार हुआ है। दोनों एजेंसियों ने 27 जून 2019 को करार पर हस्ताक्षर किया था। इसके बाद रूस में 10 फरवरी 2020 से भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों का प्रशिक्षण शुरू हुआ लेकिन कोरोना लॉकडाउन के कारण मार्च अंत से प्रशिक्षण रोक दिया गया था।

coronavirus
Rajeev Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned