अंतरराष्ट्रीय चंदन तस्कर गिरोह का भंडाफोड़ , चार टन लाल चंदन जब्त

अंतरराष्ट्रीय चंदन तस्कर गिरोह का भंडाफोड़ , चार टन लाल चंदन जब्त

Priya Darshan | Publish: May, 19 2019 06:28:40 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

13 गिरफ्तार, 3.50 करोड़ कीमत की चार टन लाल चंदन जब्त

बेंगलूरु. केन्द्रीय अपराध जांच शाखा (सीसीबी) अधिकारियों ने लाल चन्दन तस्करी के आरोप में 13 कुख्यात अंतरराष्ट्रीय तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से 3.50 करोड़ रुपए कीमत की 4000 किलो ग्राम लाल चंदन जब्त किया।

पुलिस के अनुसार तस्करों के गिरोह ने अवैध रूप से चंदन पेडो को काट कर इसे बेंगलूरु के सुबमण्यपुर, इलेक्ट्रानिक सिटी, विनायक नगर और अन्य क्षेत्रों में स्थित गोदामों रखा था। इन लोग अन्य राज्यों से लाल चंदन को विदेश में तस्करी करने की योजना बनाई थी, लेकिन पुलिस ने इन्हें माल सहित दबोच लिया।

पुलिस ने मैसूरु रोड के विनायक नगर के एक गोदाम पर छापा मार कर एक आरोपी को गिरफ्तार किया और वाहन की तलाशी ली गई तो उसमें सात बाक्सो में 500 किलो ग्रााम लाल चंदन रखी थी। गिरफ्त आरोपी की सूचना पर विशेष पुलिस दलों ने इलेक्ट्रॉनिक सिटी के दोड्डा नागमंगला स्थित एक गोदाम पर छापा मार कर १३ तस्करों को गिरफ्तार किया और 4000 किलोग्राम लाल चंदन बरामद किया जिसकी कीमत 3.50 करोड़ रुपए है। तस्करों के मुख्य सरगना अब्दुल रशीद (48) को दक्षिण कन्न (25) एम.एस.बाशा (40) दक्षिण कन्नड़ के बंटवाल का शफी (30), मोहम्मद शब्बीर (25), केरल का नौशाद (27), सिद्दकी (40), बंटवाल का इब्राहिम (28), मोहम्मद अनवर (23), मुबारक (26) और विजय नगर बेंगलूरु का अली खान (40) हैं।

पुलिस ने बताया कि ये न सिर्फ कर्नाटक बल्कि आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, केरल, महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में व्यवस्थित रूप से लाल चंदन पेड़ों को काटते थे।

बाद में विशेष किस्म के पार्सल बक्सों में भरकर उसका जाली बिल तैयार करके चेन्नई और मुंबई जैसे बंदरगाह शहरों में भेजते थे। वहां से हांग कांग, चीन, वियतनाम और खाड़ी दशों में तस्करी की जाती है।

अब्दुल रशीद और इसके गिरोह ने कई सालों से यह धंधा कर करोडों रुपए कमाया है। इसके अतिरिक्त सभी आरोपी विभिन्न अपराधिक मामलों मे लिप्त हैंं। पुलिस आयुक्त टी.सुनील कुमार ने इस सफलता के लिए पुलिस दल को नकद पुरस्कार देने की घोषणा की।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned