कर्नाटक में भक्ति भाव से मनाया ईसर-गणगौर पर्व

महिलाओं ने किया कोरोना से मुक्ति का आग्रह

By: Yogesh Sharma

Published: 27 Mar 2020, 06:54 PM IST

बेंगलूरु. शहर के शांतिनगर स्थित मातोश्री भवन में ईसर-गणगौर की पूजा पूरे भक्ति भाव से की गई। राजपूत समाज की क्षत्राणियों ने मिलकर सामूहिक रूप से ईसर-गणगौर की पूजा की। राजपूत समाज की क्षत्राणी हेमलता भाटी ने बताया कि ईसर-गणगौर की पूजा शिव पार्वती के रूप में की जाती है। विवाहित महिलाएं अपने सुहाग की दीर्घायु की कामना के लिए ये पूजा करती हैं। अविवाहित युवतियां अच्छे वर की कामना के लिए ये पूजा करती हैं। शुक्रवार की पूजा में विशेष तौर पर क्षत्राणियों ने शिव पार्वती से कोरोना वायरस से देश को मुक्ति दिलाने का आग्रह किया। विशेष पूजा में किरण शक्तावत, विष्णु राठौड़, पवन चौहान, नमिता राठौड़, चैतन्या भाटी आदि उपस्थित थीं। कोरोना वायरस के चलते पूजा के दौरान भी महिलाओं ने एक दूसरे के बीच दूरी बनाकर रखी।

गणगौर पूजन
मैसूरु. राजस्थानी महिलाओं ने शुक्रवार को गणगौर की पूजा अर्चना की। इसमे शिव -पार्वती की पूजा करते हुए कथा पाठ कर घर की दशा और दिशा शुद्ध बनी रहे, सौभाग्य अमर रहे की कामना की। मंडी मोहल्ला निवासी अक्षिता शर्मा ने बताया कि विश्व में फैली कोरोनो नामक महामारी से निजात पाने की व सुख समृद्धि की मंगलमय कामना की गई।

कर्नाटक में भक्ति भाव से मनाया ईसर-गणगौर पर्व

घर में भजन-कीर्तन
मंड्या. रामनगर जिला चन्नपट्टन्न तहसील में गुरुवार को आइमाता चांदनी बीज पर रात को घर में ही भजन-कीर्तन किया। चुतराराम आगलेचा ने बताया कि उनका परिवार लॉकडाउन के कारण मंदिर नहीं जाने पर घर में आइमाता की पूजा कर परिवार के सदस्यों ने मिलकर भजन कीर्तन किया।

कर्नाटक में भक्ति भाव से मनाया ईसर-गणगौर पर्व
Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned