बच्चों के बीच चलकर पहुंचा चंद्रयान, मंगलयान और गगनयान!

लोकप्रिय हो रहा है इसरो का स्पेस ऑन व्हील कार्यक्रम
1800 से अधिक लोग पहुंचे अंतरिक्ष कार्यक्रमों को करीब से देखने

By: Rajeev Mishra

Published: 10 Feb 2020, 09:52 AM IST

बेंगलूरु.
विज्ञान को लोकप्रिय बनाने एवं युवाओं को देश के अंतरिक्ष कार्यक्रमों से रू-ब-रू कराने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अनूठी पहल की है। इसके तहत इसरो ने अपने संस्थापक विक्रम साराभाई की जन्म शताब्दी के अवसर पर ‘स्पेस ऑन व्हील’ नामक बस चलाई है जो गगनयान, चंद्रयान, मंगलयान, चंद्रयान-2 और पीएसएलवी, जीएसएलवी जैसे रॉकेटों के मॉडल के साथ आम जनता के बीच पहुंच रही है।
रविवार को स्पेस ऑन व्हील जालहल्ली स्थित अंतरिक्ष विभाग कॉलोनी पहुंची जहां यह 10 फरवरी तक रहेगी। पहले ही दिन यहां स्कूली बच्चों सहित आसपास के 1800 से अधिक लोग पहुंचे। अंतरिक्ष कार्यक्रमों को करीब से जानकर जहां बच्चे रोमांचित हुए वहीं अभिभावकों ने इसकी सराहना की। इसट्रैक विक्रम साराभाई अंतरिक्ष कार्यक्रम (वीएससीपी) नोडल कमिटी के सदस्य सचिव हिमांशु पांडे्य ने बताया कि स्पेस ऑन व्हील आम लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हो रही है। इसमें इसरो के विभिन्न उपग्रहों के अलावा प्रक्षेपण यानों जैसे पीएसएलवी, जीएसएलवी, जीएसएलवी मार्क-3 आदि प्रदर्शित किए गए हैं। इसके अलावा डॉप्लर मौसम राडार, गगनयान का स्पेस शूट और एक्जीबिशन बस आदि भी है जहां आकर इसरो के तमाम अंतरिक्ष कार्यक्रमों के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है। आयोजन स्थल पर लगातार ऑडियो-वीडियो शो चल रहे हैं। विक्रम साराभाई के बारे में विशेष शो दिखाए जा रहे हैं। इसरो के तमाम केंद्रों और वहां चल रहे मिशनों के बारे में भी तमाम जानकारियां साझा की जा रही हैं। प्रदर्शनी में आने वाले बच्चों की जिज्ञासाओं और सवालों का भी जवाब दिया जा रहा है ताकि वे अंतरिक्ष कार्यक्रमों के बारे में जान सकें और विज्ञान के प्रति उनकी रुचि बढ़े।
इससे पहले इसरो डीप स्पेस नेटवर्क (आइडीएसएन) ब्यालालू में भी स्पेस ऑन व्हील पहुंची थी जहां इसरो के कई वैज्ञानिक भी मौजूद रहे। इसट्रैक के निदेशक वीवी श्रीनिवासन ने बताया कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों को अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के बारे में बताना और जागरूकता पैदा करना है। इसरो की उपलब्धियों के महत्व को जानकार बच्चे अंतरिक्ष विज्ञान की ओर आकर्षित होंगे। इसट्रैक के उपनिदेशक तथा विक्रम साराभाई शताब्दी कार्यक्रम के चेयरपर्सन बृंदा वी. के अलावा बीएन रामकृष्ण, सुधीर कुमार एन. भी इस दौरान उपस्थित रहे।

Rajeev Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned