अंतरिक्ष मलबे से भारतीय उपग्रहों को बचाएगा 'नेत्र'

इसट्रैक में एसएसए नियंत्रण केंद्र की स्थापना

By: Rajeev Mishra

Published: 24 Dec 2020, 09:12 PM IST

बेंगलूरु.
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने भारतीय उपग्रहों के मलबे और अन्य खतरों से अपने उपग्रहों को सुरक्षित रखने के लिए अंतिरक्ष में प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली 'प्रोजेक्ट नेत्र' शुरू किया है। इसके तहत यहां पीन्या स्थित इसरो टेलीमेट्री टै्रकिंग एवं कमांड नेटवर्क (इसट्रैक) में स्थिति परक जागरुकता (एसएसए) नियंत्रण केंद्र की स्थापना की गई है जिसका उद्घाटन इसरो अध्यक्ष के.शिवन ने किया।

इसरो ने कहा है कि प्रोजेक्ट नेत्र के तहत अंतरिक्षीय मलबे पर नजर रखने के लिए एक राडार प्रणाली और एक ऑप्टिकल टेलीस्कोप के साथ नियंत्रण केंद्र की आवश्यकता होती है। पिछले कुछ दशकों से इसरो अपने उपग्रहों की निगरानी एवं सुरक्षा करता रहा है लेकिन, अब चुनौतियां काफी बढ़ गई हैं क्योंकि अंतरिक्ष में मलबा काफी बढ़ गया है। इसीके मद्देनजर अंतरिक्ष स्थितिपरक जागरूकता और प्रबंधन निदेशालय (डीएसएसएएम) की स्थापना भी इसरो में की गई है। इस केंद्र के जरिए अन्य अंतरिक्ष एजेंसियों और अंतरराष्ट्रीय निकायों के बीच प्रभावी समन्वय के जरिए भारतीय अंतरिक्ष परिसंपत्तियों की रक्षा के लिए एक बेहतर तंत्र विकसित किया गया है।

अब नव स्थापित नियंत्रण केंद्र भारत में स्थिति परक अंतरिक्ष जागरुकता का हब होगा। यहां अंतरिक्षीय मलबे का अवलोकन, कक्षा निर्धारण, मलबों की नई सूची का निर्माण और आंकड़ों का प्रसंस्करण भी यहीं होगा। उपग्रहों के प्रक्षेपण के समय किसी अंतरिक्षीय कचरे से टकराव की आशंका की समय रहते भविष्यवाणी तुरंत इस केंद्र के जरिए हो सकेगी। इस नए केंद्र की स्थापना से भारत अपने अंतरिक्षीय परिसंपत्तियों की सुरक्षा का सामथ्र्य बढ़ेगा और आत्मनिर्भर होगा। दरअसल, पिछले 50 वर्षों के अंतरिक्ष इतिहास में पृथ्वी की कक्षा के चारों तरफ घूमने वाली कचरे की एक खतरनाक पट्टी बन गई है। अमूमन ये अंतरिक्ष में उपस्थित निष्क्रिीय उपग्रहों और रॉकेटों के मलबे हैं जो कई वर्षों तक विद्यमान रहते हैं। मानव निर्मित ये मलबे किसी सक्रिय उपग्रह को क्षति पहुंचा सकते हैं जो अंतरिक्ष में हजारों की संख्या में मौजूद हैं और उनकी निगरानी आवश्यक है।

Rajeev Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned