पीएसएलवी रॉकेट के लिए इसरो की नजर कंसोर्टियम पर

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) वैश्विक अंतरिक्ष उद्योग में बड़ी हिस्सेदारी हासिल करने के लिए प्रक्षेपण वाहनों के निर्माण पर जोर दे रहा है

By: शंकर शर्मा

Published: 22 Aug 2017, 10:17 PM IST

बेंगलूरु. दुनिया में सबसे सस्ते प्रक्षेपण के लिए विशिष्ट स्थान रखने वाला भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) वैश्विक अंतरिक्ष उद्योग में बड़ी हिस्सेदारी हासिल करने के लिए प्रक्षेपण वाहनों के निर्माण पर जोर दे रहा है। इसके लिए निजी क्षेत्र का एक ऐसा कंसोर्टियम तैयार करने का प्रयास हो रहा है जो इसरो के लिए पीएसएलवी रॉकेट का निर्माण करे।


इसरो अध्यक्ष एएस किरण कुमार ने कहा है कि संगठन के क्षमता निर्माण के साथ-साथ घरेलू उद्योगों की क्षमता बढ़ाने पर जोर दिया जा है। उन्होंने कहा कि ‘हम हर वर्ष प्रक्षेपण अभियानों की संख्या बढ़ाना चाहते हैं। इसके लिए एक निजी कंसोर्टियम तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं।

यह एक संयुक्त उपक्रम होगा जो हमारे लिए लांच व्हीकल तैयार करेगा।’ इसरो ने इसी साल पीएसएलवी से एक ही उड़ान में 104 उपग्रहों को सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया। पीएसएलवी इसरो का सबसे विश्वसनीय रॉकेट है और वह चाहता है कि कंसोर्टियम पीएसएलवी का निर्माण करे ताकि हर वर्ष प्रक्षेपण अभियानों की संख्या बढ़ाई जा सके।


किरण कुमार ने कहा कि यह वैश्विक उपग्रह उद्योग में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने से जुड़ा प्रश्न है। पीएसएलवी ने कम से कम लागत में विश्व की विभिन्न एजेंसियों के उपग्रह लांच किए है। उन्होंने कहा कि इसरो हर वर्ष 24 प्रक्षेपण अभियानों को अंजाम देने की योजना पर भी चल रहा है।

देश के अभी 42 उपग्रह अंतरिक्ष में सक्रिय है। लेकिन, संचार, दूर संवेदी, अर्थ ऑब्जर्वेशन और नेविगेशन क्षेत्र में उपग्रहों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए हर वर्ष प्रक्षेपण संख्या बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।


गौरतलब है कि वैश्विक अंतरिक्ष बाजार लगभग 200 अरब डॉलर का है और भारत की इसमें हिस्सेदारी अब भी नाम मात्र की है। वर्ष 2015-16 के दौरान इसरो की वाणिज्यिक इकाई एंट्रिक्स ने लगभग 230 करोड़ रुपए अर्जित किए। किरण कुमार ने कहा कि प्रक्षेपण संख्या बढ़ाने के साथ ही इसरो दूसरे चंद्र मिशन चंद्रयान-2 की भी तैयारी में है।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned