बेजोड़ मिठाई के नाम पर मशहूर कुंदानगरी में कौन चखेगा जीत का स्वाद

बेजोड़ मिठाई के नाम पर मशहूर कुंदानगरी में कौन चखेगा जीत का स्वाद

Santosh Kumar Pandey | Publish: Apr, 22 2019 05:13:06 PM (IST) | Updated: Apr, 22 2019 05:13:07 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

महाराष्ट्र व गोवा राज्यों से सटी सीमा पर स्थित बेलगावी जिले की बोलगावी व चिक्कोड़ी सीटों के लिए 23 मई को मतदान होगा। इन दोनों सीटों पर भाजपा व कांग्रेस के बीच कांटे का मुकाबला होने जा रहा है। इस सीट पर भाजपा व कांग्रेस के उम्मीदवारों सहित 57 उम्मीदवार चुनाव मैदान हैं।

बेंगलूरु. महाराष्ट्र व गोवा राज्यों से सटी सीमा पर स्थित बेलगावी जिले की बोलगावी व चिक्कोड़ी सीटों के लिए 23 मई को मतदान होगा। इन दोनों सीटों पर भाजपा व कांग्रेस के बीच कांटे का मुकाबला होने जा रहा है। इस सीट पर भाजपा व कांग्रेस के उम्मीदवारों सहित 57 उम्मीदवार चुनाव मैदान हैं।

बेलगावी सीट पर भाजपा के सुरेश अंगड़ी पिछले तीन चुनावों में लगातार जीतते आए हैं और इस बार उनका मुकबाला कांग्रेस के विरूपाक्षप्पा एस. साधुनवर के साथ है। चिक्कोड़ी संसदीय क्षेत्र का कुछ हिस्सा भी इसी जिले में है। जिस पर पिछली बार कांग्रेस के प्रकाश हुक्केरी चंद मतों के अंतर से जीत थे।

कुंदानगरी के नाम से प्रसिद्ध बेलगावी में मराठी भाषी लोगों की संख्या अच्छी खासी है। क्षेत्र में अरबावी, गोकाक, बेलगावी उत्तर, बेलगावी दक्षिण, बेलगावी ग्रामीण, बैलहोंगल, रामदुर्ग तथा सौंदत्ती येलम्मा सहित कुल आठ विधानसभा सीटें आती हैं। क्षेत्र में 17 लाख 49 हजार मतदाता हैं। भाजपा के सुरेश अंगड़ी यहां जीत की तिकड़ी बना चुके हैं। हालांकि कुछ वर्गों के लोग अंगड़ी से खुश नहीं हैं और उनका मानना है कि सांसद के पद पर रहते हुए जिले के विकास के लिए कुछ खास नहीं किया।

इस बार कांग्रेस को सफलता की आस
कांग्रेस पार्टी के नेताओं का कहना है कि इस बार पार्टी को जीत की बड़ी उम्मीद है, क्योंकि जनता में अंगड़ी का विरोध हो रहा है। जिला प्रभारी मंत्री सतीश जारकीहोली का दावा है कि इस बार कांग्रेस को सफलता मिलेगी। उनका कहना है कि अंगड़ी इस सीट से तीन बार अलग अलग कारणों से जीते हैं और यह उनका अपना कोई करिश्मा नहीं है। पहली बार वे अटल बिहारी वाजपेयी की लहर, दूसरी बार येड्डियूरप्पा के कारण व तीसरी बार पिछले चुनाव में मोदी की लहर के कारण जीत गए, लेकिन इस बार मतदाता उनसे बिल्कुल प्रभावित नहीं हैं।
कर्नाटक में भाजपा के पैर जमाने से पहले बेलगावी सीट कांग्रेस का मजबूत गढ़ रही थी। 1957 व 1962 के चुनावों में कांग्रेस के बीएन दातार, 1963 में हुए उपचुनाव में बीएस कौजालगी, 1967 में बीएन नबीसाब, 1971 व 1977 में एके कोट्राशेट्टी, 1980, 1984, 1989 तथा 1991 में इस सीट से कांग्रेस के एसबी सिद्नाल लगातार चार बार चुनाव जीते थे। 1996 में यहां से जनतादल के शिवानंद कौजालगी चुनाव जीते, जबकि 1998 में किसान नेता बाबागौड़ा पाटिल पहली बार भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते। 1999 में एक बार फिर से कांग्रेस के अमर सिम्हा पाटिल यहां से चुनाव जीते। 2004 से तीन बार सुरेश अंगड़ी सांसद निर्वाचित हुए।
सुरेश अंगड़ी का दावा है कि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान अच्छा काम किया है और अनेक विकास कार्य करवाए हैं, जिसमें बेलगावी के सांब्रा हवाई अड्डे का विस्तार भी शामिल हैं। बेलगावी शहर में अनेक रेलवे ब्रिज बनवाए, स्टेशनों का उन्नयन करवाया। बेलगावी का नाम स्मार्ट सिटी परियोजना में शामिल हुआ। विदेश व्यापार केंद्र के महानिदेशक के कार्यलय की स्थापना करवाई।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned