पूर्व मंत्री जनार्दन पुजारी कोरोना से उबरकर बोले : इससे डरें नहीं

मेंगलूरु में दक्षिण कन्नड़ जिले के प्रभारी मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी ने निजी अस्‍पतालों को दी चेतावनी

By: Sanjay Kumar Kareer

Published: 20 Jul 2020, 11:53 PM IST

मेंगलूरु. पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता बी.जनार्दन पुजारी को कोविड -19 से उबरने के बाद सोमवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। पुजारी ने कहा कि लोगों को वायरस से डरने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने लोगों से पौष्टिक भोजन करने और अपने स्वास्थ्य की अच्छी तरह देखभाल करने का आग्रह किया। पौष्टिक भेाजन ही रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है।

पुजारी को कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट सकारात्मक आने के बाद शहर के एक निजी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया था। अब बीमारी से उबर कर स्वस्थ होने के बाद पुजारी ने एक बयान जारी कर लोगों से सभी सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनने और शारीरिक दूरी बनाए रखने का आग्रह किया।

निजी अस्पताल कोविड रोगियों के इलाज से इंकार नहीं करें

मेंगलूरु. निजी अस्पताल किसी भी कारण कोविड-19 के रोगियों को वापस नहीं भेज सकते। जिले के प्रभारी मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी ने सोमवार को यह बात कही। वे यहां फादर मुलर मेडिकल कॉलेज में कोविड-19 रोगियों के लिए किए गए प्रबंधों पर बैठक को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि दक्षिण कन्नड़ जिला चिकित्सा के क्षेत्र में काफी विकसित है। इसलिए सरकार कोविड-19 मरीजों इलाज के लिए एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल भटकना कतई बर्दाश्त नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में कोविड-19 रोगियों को इलाज के लिए भर्ती से इनकार करना अस्वीकार्य है।

उन्होंने कहा कि पहले से ही मुख्यमंत्री ने निजी अस्पतालों को इलाज के लिए स्पष्ट निर्देश दिए हैं। सभी अस्पतालों में पचास प्रतिशत बिस्तर कोविड 19 रोगियों के लिए आरक्षित रखने के निर्देश दिए गए हैं।

उन्होंने कहा कि निजी अस्पताल मरीजों की वित्तीय स्थिति पर विचार नहीं करें। बीपीएल या एपीएल राशन कार्ड वाले मरीजों का आयुष्मान भारत योजना के तहत सरकार द्वारा अनुमोदित दरों पर इलाज किया जाना चाहिए। पुजारी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग प्रत्येक अस्पताल में सभी कोविड-19 रोगियों के उपचार की निगरानी करेगा।

मंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को निजी अस्पतालों में वेंटिलेटर की कमी के मामले पर ध्यान देने और कम लागत वाले वेंटिलेटर की आपूर्ति के लिए जल्द इंतजाम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने 25,000 रैपिड एंटीजन टेस्ट किट और 50 वेंटिलेटर की आपूर्ति दक्षिण कन्नड़ जिले को करने की मंजूरी दी है। मंत्री ने कहा कि गैर-कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए अलग व्यवस्था की गई है।

फादर मुलर मेडिकल कॉलेज के निदेशक रिचर्ड कोहिलो ने कहा कि अस्पताल में सभी कोविड-19 रोगियों का सही तरीके से उपचार किया जाता है। जिला उपायुक्त सिंधु रूपेश, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.रत्नाकर, अस्पताल के प्रशासक रूडॉल्फ रविदास और अन्य लोग बैठक में उपस्थित थे।

Corona virus COVID-19 virus
Sanjay Kumar Kareer Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned