जनार्दन रेड्डी के बड़े भाई करुणाकर को भी मिला भाजपा का टिकट

जनार्दन रेड्डी के बड़े भाई करुणाकर को भी मिला भाजपा का टिकट

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Apr, 21 2018 05:44:48 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

छोटे भाई को पहले ही उम्मीदवार घोषित कर चुकी है पार्टी

बेंगलूरु. मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा ने शुक्रवार को विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी कर दी। इस सूची में ५९ उम्मीदवारों के नाम शामिल हैं। इसके साथ ही भाजपा अब तक 213 उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है जबकि वरुणा और बादामी सहित 11 सीटों से पार्टी ने अभी उम्मीदवार घोषित नहीं किया है।


रेड्डी के करीबियों को पांच टिकट
बल्लारी अवैध खनन मामले के कारण विवादों में घिरे पूर्व मंत्री जी जनार्दन रेड्डी से भाजपा ने भले ही दूरी बना रही है लेकिन उनके ५ करीबी लोगों को अब तक पार्टी टिकट देने की घोषणा कर चुकी है। तीसरी सूची में रेड्डी के बड़े भाई करुणाकर रेड्डी को भी पार्टी ने उम्मीदवार घोषित किया है। इससे पूर्व दूसरी सूची में रेड्डी के छोटे भाई सोमशेखर रेड्डी को भी भाजपा ने टिकट देने की घोषणा की थी। तीन में से दो भाइयों को टिकट मिलने के साथ ही पांच साल बाद इस विधानसभा चुनाव में रेड्डी बंधुओं की मजबूत वापसी हुई है। रेड्डी बंधुओं के दो करीबियों- सुरेश बाबू और सण्ण फकरीप्पा को भी भाजपा पहले ही टिकट देने की घोषणा कर चुकी है। बल्लारी खनन मामले में जनार्दन रेड्डी की गिरफ्तारी के बाद पिछले चुनाव में भाजपा ने करुणाकर के अलावा रेड्डी बंधुओं और उनके करीबियों में किसी को टिकट नहीं दिया था। पहली सूची में रेड्डी बंधुओं के विश्वासपात्र सांसद बी श्रीरामुलू को चित्रदुर्गा जिले के मोलकालमुरु से टिकट देने की घोषणा की गई थी। बताया जाता है कि श्रीरामुलू ने ही सोमशेखर के बाद करुणाकर को भी टिकट देने के लिए आलाकमान को राजी करने में बड़ी भूमिका निभाई।


वरुणा के लिए अभी इंतजार
भाजपा ने तीसरी सूची में भी मैसूरु जिले की वरुणा सीट से उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है। यहां से मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या के बेटे डॉ यतींद्र कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि भाजपा यतींद्र के खिलाफ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येड्डियूरप्पा के छोटे बेटे विजयेंद्र को उतारने की तैयारी कर रही है। अब तक उम्मीदवार घोषित नहीं होने के बावजूद विजयेंद्र क्षेत्र मेंं सघन जनसंपर्क अभियान चला रहे हैं। सिद्धरामय्या के बादामी से लडऩे की चर्चा के कारण भाजपा यहां देखो और इंतजार करो की नीति पर चल रही है। तीसरी सूची में बेंगलूरु के यशवंतरपुर का नाम भी नहीं है। यहां उडुपी-चिकमगलूरु की सांसद शोभा करंदलाजे को उतारने की चर्चा है।


सिद्धू के खिलाफ गोपाल को उतारा
राजनीतिक हलकों में जनता दल (ध) के साथ गुप्त समझौते की चर्चाओं पर विराम लगाते हुए भाजपा ने मैसूरु जिले की चामुंडेश्वरी से गोपाल राव को उतारा है। यहां से मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। बेटे के लिए वरुणा सीट छोडऩे के बाद सिद्धरामय्या इस बार अपनी पुरानी सीट चामुंडेश्वरी से लौटे हैं। हालांकि, यहां से ही उन्होंने अपना राजनीतिक सफर शुरु किया था और पांच बार विधायक भी रह चुके हैं लेकिन २००८ में नए परिसीमन के बाद वे वरुणा से चुनाव लड़ रहे थे। राजनीतिक हलकों में चर्चा थी कि सिद्धरामय्या की घेराबंदी के लिए भाजपा यहां उम्मीदवार नहीं उतारकर जद (ध) की मदद कर सकती है और उसके बदले वरुणा में जद (ध) विजयेंद्र के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारेगा। चामुंडेश्वरी से जद (ध) ने मौजूदा विधायक जी टी देवेगौड़ा को उतारा है। सिद्धरामय्या और देवेगौड़ा एक समय मित्र थे।

करुणाकर रेड्डी को हरपनहल्ली से टिकट
भाजपा ने पूर्व मंत्री जी करुणाकर रेड्डी को दावणगेेरे जिले के हरपनहल्ली से उम्मीदवार बनाया है। रेड्डी वर्ष 2008 में यहां से चुनाव जीत चुके हैं और येड्डियूरप्पा सरकार में अपने छोटे भाई जनार्दन के साथ मंत्री भी रह चुके हैं। करुणाकर बल्लारी से सांसद भी रह चुके हैं। करुणाकर पिछले बार भी भाजपा के टिकट पर उतरे थे लेकिन 8 हजार से ज्यादा मतों से हार गए थे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned