एपेक्स बैंक घोटाले पर चर्चा की मांग, जद-एस के सदस्यों का धरना .कार्यवाही स्थगित

विधानसभा में सोमवार को प्रश्नकाल के बाद मागड़ी से जनतादल-एस के सदस्य ए. मंजुनाथ ने कार्य स्थगन प्रस्ताव की पूर्व बहस में हिस्सा लेने की अनुमति देने का अनुरोध किया। इस पर अध्यक्ष विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी ने कहा कि अपेक्स बैंक के संबंध में आपके द्वारा दिया गया नोटिस कार्य स्थगन प्रस्ताव के दायरे में नहीं आता है। लिहाजा नियम 69 के तहत बहस की अनुमति दी जा सकती है और आप इस प्रस्ताव पर 5 मिनट तक बोल सकते हैं।

By: Surendra Rajpurohit

Updated: 23 Mar 2020, 10:01 PM IST

बेंगलूरु

कर्नाटक राज्य सहकारी एपेक्स बैंक में कथित घोटाले का आरोप लगाते हुए जनतादल-एस के सदस्यों ने कार्य स्थगन प्रस्ताव की पूर्ववर्ती बहस में भाग लेने की अनुमति नहीं देने पर सोमवार को विधानसभा में धरना दिया।

विधानसभा में सोमवार को प्रश्नकाल के बाद मागड़ी से जनतादल-एस के सदस्य ए. मंजुनाथ ने कार्य स्थगन प्रस्ताव की पूर्व बहस में हिस्सा लेने की अनुमति देने का अनुरोध किया। इस पर अध्यक्ष विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी ने कहा कि अपेक्स बैंक के संबंध में आपके द्वारा दिया गया नोटिस कार्य स्थगन प्रस्ताव के दायरे में नहीं आता है। लिहाजा नियम 69 के तहत बहस की अनुमति दी जा सकती है और आप इस प्रस्ताव पर 5 मिनट तक बोल सकते हैं।

इस पर विधि व संसदीय कार्य मंत्री जे.सी. माधुस्वामी ने आक्षेप करते हुए कहा कि कार्य स्थगन प्रस्ताव के दायर में नहीं आने की अध्यक्ष के रूलिंग देने के बाद इस मसले को उठाना कैसे संभव है। इस पर अध्यक्ष ने कहा कि अपेक्स बैंक के मसले को कार्य स्थगन प्रस्ताव के तहत उठाने की गुंजाइश नहीं ह लिहाजा आज शाम को 5 बजे किसी दूसरे नियम के तहत बहस का अवसर दिया जाएगा। इस पर जनतादल-एस के सदस्य एच.डी. रेवण्णा ने जिद की कि पूर्वकालिक प्रस्तावना की अनुमति दी जानी चाहिए।

एपेक्स बैंक में 462 करोड़ रुपए से अधिक धनराशि का बड़ा घोटाला हुआ है।प्रस्तावना करने के बाद आप अपनी रूलिंग दें तो बेहतर होगा। रेवण्णा की इस दलील पर सरकार के सहमत नहीं होने पर जनता दल-एस के सदस्यों ने अध्यक्ष की पीठ के सामने एकत्रित होकर धरना देना चालू कर दिया। जद-एस के के.एम. शिवलिंगेगौड़ा, वेंकटराव नाडग़ौड़ा, मंजुनाथ ने इस मसले को उठाने क अनुमति देने का पुरजोर हठ किया।

इस पर उपमुख्यमंत्री गोविन्द कारजोल ने कहा कि सदन का कार्य कलाप तय निटमों के अनुसार चलता है लिहाजा बजट पर बहस को जारी रखा जाना चाहिए। पर्यटन मंत्री सी.टी. रवि ने सवाल किया कि क्या आपके मसला उठाने से भ्रष्टाचार रुक जाएगा. राजनीति मकसद के लिए इस सदन का इस्तेमाल नहीं करें तो अच्छा होगा। भारी व मध्यम उद्योग मंत्री जगदीश शेट्टर ने कहा कि मसला किसी की प्रतिष्ठा का नहीं है और सदन की कार्यवाही सुचारू तौर पर चलनी चाहिए। भाजपा के प्रीतम गौड़ा ने चुटकी लेते हुए कहा कि शायद रेवण्णा को किसी ज्योतिषी ने 1 बजे से पहले चर्चा करने को कहा होगा। अध्यक्ष के बार बार कहने पर भी जद-एस ेके सदस्यों ने धरना वापस नहीं लिया तो कागेरी ने कांग्रेस के आर.वी. देशपांडे को बजट पर बोलने की अनुमति दे दी।

इस पर देशापांंडे ने कहा कि सदस्यों के धरना जारी रखने पर बहस करना ठीक नहीं होगा। अध्यक्ष ने बहस का अवसर देने का आप लोगों को भरोसा दिलाया है लिहाजा आप धरना वापस ले लें। जनतादल-एस के सदस्यों के तब भी धरना वापस नहीं लेने पर अध्यक्ष ने कहा कि इससे जनतादल-एस के सदस्यों के बजट पर बहस में रुकावट डालने का संदेश जाएगा। यह कहकर उन्होंने धरना जारी रहते ही सदन की कार्यवाही को दस मिनट के लिए स्थगित कर दिया। सदन की बैठक दुबारा शुरू होने पर जब अध्यक्ष ने भरोसा दिलाया कि एपेक्स बैंक के मसले पर नियम 69 के तहत बहस की अनुमति दा जाएगी तो इस पर जद-एस के सदस्यों ने धरना समाप्त कर दिया और अपने आसन की तरफ लौट गए।

Surendra Rajpurohit Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned