scriptKannada resonated for the first time in a foreign parliament, speech | पहली बार किसी विदेशी संसद में गूंजी कन्नड़, भाषण वायरल | Patrika News

पहली बार किसी विदेशी संसद में गूंजी कन्नड़, भाषण वायरल

  • साथी सांसदों ने तालियों की गड़गड़ाहट से किया स्वागत
  • कनाडा की संसद में सांसद चंद्र आर्य ने कन्नड़ में दिया भाषण

बैंगलोर

Published: May 21, 2022 11:07:41 am

Canada या यूं कहें कि भारत के बाहर दुनिया की किसी संसद में पहली बार किसी ने Kannada Language में अपनी बात रखी है। अपनी मातृ भाषा के प्रति इस लगाव की प्रशांसा भी हो रही है। Social Media पर भी यह भाषण वायरल हो गया है। भाषण के बाद साथी सांसदों ने अपनी सीट पर खड़े होकर तालियों की गड़गड़ाहट के साथ सराहना भी की।

पहली बार किसी विदेशी संसद में गूंजी कन्नड़, भाषण वायरल
पहली बार किसी विदेशी संसद में गूंजी कन्नड़, भाषण वायरल

कनाडा में नेपियन के सांसद Chandra Arya मूल रूप से Karnataka के तुमकूरु जिला स्थित सिरा तालुक के द्वारालु गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने कनाडा की संसद में कन्नड़ में भाषण दिया और अपने भाषण का विडियो Tweet भी किया। उन्होंने लिखा, ‘मैंने कनाडा की संसद में अपनी मातृभाषा कन्नड़ में बोला। यह खूबसूरत भाषा है जिसका लंबा इतिहास है और करीब पांच करोड़ लोग इस भाषा को बोलते हैं। यह पहली बार है जब भारत के बाहर दुनिया में किसी देश की संसद में कन्नड़ में भाषण दिया गया है।’

आर्य ने Parliament में दिए भाषण में कहा कि वे प्रसन्न हैं कि उन्हें कनाडा की संसद में कन्नड़ में बोलने का अवसर मिला। यह कन्नड़ भाषी लोगों के लिए गर्व का क्षण है। उन्होंने कहा कि कनाडा में रहने वाले कन्नड़ भाषियों ने वर्ष 2018 में कनाडा की संसद में कन्नड़ राज्योत्सव मनाया था।

राज्य के मुख्यमंत्री Basavraj Bommai ने कहा कि आर्य ने कन्नड़ भाषा का विश्व मंच पर प्रसार किया है। उन्होंने ट्वीट किया ‘चंद्र आर्य की दिल से प्रशंसा करता हूं जिन्होंने साबित किया कि वह जीवन में चाहे कितना भी बड़ा मुकाम क्यों न हासिल कर लें, अपनी जड़ों को हमेशा याद रखेंगे।’

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष D K Shivakumar, उद्योग मंत्री Murugesh Nirani और उच्च शिक्षा मंत्री Dr C. N. Ashwathnarayan ने भी आर्य के इस कदम की प्रशांसा करते हुए आभार जताया है।

इसलिए भी चर्चा में आए : उल्लेखनीय है कि आर्य ने हाल में कनाडा के लोगों और सरकार से अपील की थी कि वे हिंदुओं के प्राचीन प्रतीक Swastik और 20 वीं सदी में नाजी प्रतीक हाकेनजर्श्ज के अंतर को समझें। दोनों प्रतीकों में कोई समानता नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार सीएम की शपथ लेने के साथ अपने ही रिकॉर्ड तोड़ने से चूके Nitish Kumar, 24 अगस्त को साबित करेंगे बहुमतपीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कितना भी 'काला जादू' फैला लें कुछ होने वाला नहींMumbai: सिंगर सुनिधि चौहान के खिलाफ शिवसेना ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत, पाकिस्तान स्पॉन्सर कार्यक्रम का लगाया आरोपदेश के 49वें CJI होंगे यूयू ललित, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नियुक्ति पर लगाई मुहरकश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या का बदला हुआ पूरा, सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिरायासुनील बंसल बने बंगाल बीजेपी के नए चीफ, कैलाश विजयवर्गीय की हुई छुट्टीसुप्रीम कोर्ट से नूपुर शर्मा को बड़ी राहत, सभी FIR को दिल्ली ट्रांसफर करने के निर्देशBihar Mahagathbandhan Govt: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के CM पद की शपथ, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.