कर्नाटक : स्थानीय स्तर पर उत्पादित ऑक्सीजन के उपयोग की अनुमति मिले : मंत्री

  • उन्होंने कहा कि लोगों के सहयोग व लॉकडाउन के सख्त पालन से ही कोविड के मामले घटेंगेे। मामले कम होने में न्यूनतम दो सप्ताह का समय लगता है।

By: Nikhil Kumar

Published: 12 May 2021, 10:01 AM IST

बेंगलूरु. स्वास्थ्य व चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर (Dr. K. Sudhakar) ने मंगलवार को केंद्र सरकार से आग्रह किया कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर (second wave) से निपटने के लिए स्थानीय स्तर पर उत्पादित ऑक्सीजन के उपयोग की अनुमति दी जाए।

उन्होंने मीडिया से कहा कि राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से राज्य के लिए अधिक से अधिक ऑक्सीजन आवंटित करने का अनुरोध किया है। केंद्र सरकार ने छह कंटेनरों में 120 टन तरल चिकित्सकीय ऑक्सीजन (Medical Oxygen) की आपूर्ति की है। राज्य के भीतर उत्पादित ऑक्सीजन के उपयोग की अनुमति मिलती है तो परिवहन की समस्या नहीं होगी। ट्रेन से ऑक्सीजन पहुंचने में न्यूनतम चार दिन लगते हैं। सरकार जल्द ही अतिरिक्त 125-150 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति करेगी।

राज्य के अस्पतालों में ऑक्सीजन व वेंटिलेटर (Ventilator) की कमी पर उन्होंने कहा कि सक्रिय मरीजों की संख्या व मांग के अनुसार ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है। जिला स्तर पर अधिकारी स्थिति के बारे में नियमित रूप से जानकारी साझा कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि दक्षिण कन्नड़ जिले में पहले से ही 150 वेंटिलेटर हैं। सरकार अतिरिक्त 30 वेंटिलेटर भेज रही है। हासन जिले को भी 50 वेंटिलेटर भेजे जाएंगे।

 

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned