कर्नाटक: बहुमत साबित करने को लेकर येड्डियूरप्पा का बड़ा बयान

कर्नाटक: बहुमत साबित करने को लेकर येड्डियूरप्पा का बड़ा बयान

Ram Naresh Gautam | Publish: May, 17 2018 08:15:41 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

किस तरह बहुमत साबित करेंगे इस बारे में विस्तार से नहीं बता सकते क्योंकि मामला सुप्रीम कोर्ट में है लेकिन...

बेंगलूरु. शपथ ग्रहण के बाद संवाददाताओं से बातचीत में येड्डियूरप्पा ने विश्वास जताया कि वे राज्यपाल की ओर से बहुमत साबित करने के लिए दिए गए 15 दिन की मोहलत से पहले ही सदन में विश्वासमत हासिल कर लेंगे। उन्होंने कहा कि वे सदन में किस तरह बहुमत साबित करेंगे इस बारे में विस्तार से नहीं बता सकते क्योंकि मामला सुप्रीम कोर्ट में है लेकिन वे सफल होने के बारे में आश्वस्त हैं। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने बहुमत नहीं होने के बावजूद लोकसभा में विश्वास मत रखा लेकिन वे सदस्यों को भावनात्मक अपील करके विश्वास मत जीत गई थी। मुझे यकीन है कि विधानसभा के सभी 222 सदस्य उस समय अपने विवेक से मत देंगे जब वे विश्वास मत मांगेंगे।

 

कृषि ऋण माफी पर फैसला जल्द
सत्ता में आने पर 24 घंटों के भीतर प्रदेश के किसानों का 1 लाख रुपए तक का राष्ट्रीयकृत व सहकारी बैंकों से लिया ऋण माफ करने के वादे के बारे में पूछे जाने पर येड्डियूरप्पा ने कहा कि मुख्य सचिव के. रत्नप्रभा ने ऋणों के आंकड़े जुटाने के लिए 24 घंटे का समय मांगा है। मैं अपने वादे के मुताबिक अगले एक या दो दिनों में किसानों का ऋण माफ करने की घोषणा कर दूंगा।

 

चार पुलिस अधिकारियों के तबादले
येड्डियूरप्पा के पदभार संभालने के कुछ ही घंटे बाद चार वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के तबादले भी हुए। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अमर कुमार पांडेय को गुप्तचर विभाग का प्रमुख बनाया गया है तो संदीप पाटिल को गुप्तचर विभाग का पुलिस उपमहानिरीक्षक बनाया है। इसके अलावा दो आईएएस अधिकारियों के भी तबादले हुए हैं। एम लक्ष्मी नारायण को मुख्यमंत्री का अतिरिक्त मुख्य सचिव बनाया गया है।

 

रिजार्ट से पुलिस सुरक्षा हटाई
नई सरकार के गठन के कुछ ही घंटे बाद पुलिस ने शहर के उस रिजार्ट से सुरक्षा हटा ली जहां कांग्रेस के विधायक ठहरे हुए हैं। इस बीच, चर्चा है कि बदले हालात में अपने विधायकों को भाजपा के आपरेशन कमल से बचाने के लिए कांग्रस और जद ध उन्हें अन्य राज्यों मेें ले जाने की तैयारी कर रहे हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने जद ध के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा से संपर्क को विधायकों को क्रमश: विशाखापट्टणम और हैदराबाद में ठहराने की पेशकश की है। बुधवार को ऐसी ही पेशकश पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने की थी। इस बीच, चर्चाहै कि जद ध ने विधायकों को कोच्चि के रिजार्ट में रखने का फैसला किया है। उधर, कांग्रेस अपने विधायकों को पंजाब या केरल ले जाने की तैयारी कर रही है।

 

कांग्रेस के तीन विधायक गायब!
कांग्रेस नेताओं ने धरना में 78 में से 76 विधायकों के शामिल होने का दावा किया लेकिन सूत्रों का कहना है कि उनके तीन विधायक गायब हैं।

Ad Block is Banned