संशोधित सिलेबस के आधार पर सीइटी संभव : अधिकारी

- अन्य प्रवेश परीक्षाओं को लेकर भी विद्यार्थी चिंतित

By: Nikhil Kumar

Published: 12 Jan 2021, 05:32 PM IST

बेंगलूरु. कोरोना महामारी के कारण शिक्षा व्यवस्था चरमरा गई है। शिक्षण गतिविधयां पूरी तरह ट्रैक पर नहीं लौटी हैं। शिक्षा विभाग ने बारहवीं (द्वितीय पीयूसी) पाठ्यक्रम में 30 फीसदी कटौती की है। विद्यार्थियों को इससे राहत है लेकिन ज्यादातर विद्यार्थी विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं को लेकर चिंतित हैं। असमंजस में हैं कि संशोधन के बाद शेष पाठ्यक्रम को पढ़े या छोड़ दें।

कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (सीइटी) को लेकर भी विद्यार्थियों में चिंता व्याप्त है। ऐसे में कर्नाटक परीक्षा प्राधिकरण (Karnataka Examination Authority) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने संशोधित सिलेबस के आधार पर ही सीइटी-2021 के आयोजन की संभावना जताई है। हालांकि, इस पर निर्णय लंबित है। समय रहते विद्यार्थियों को जानकारी दे दी जाएगी।

कॉमेड-के (Comed- k) के कार्यकारी सचिव एस. कुमार ने बताया कि संबंधित बोर्डों द्वारा संशोधित सिलेबस को ध्यान रख कर ही प्रवेश परीक्षाओं के प्रश्न पत्र तैयार किए जाएंगे।

डीपार्टमेंट ऑफ प्री-यूनिवर्सिटी एजुकेशन बोर्ड के निदेशक स्नेहल आर. ने कहा कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने भी सिलेबस कम की है। इसी के आधार पर डीपीयूइ ने 12वीं परीक्षा का सिलेबस 30 फीसदी कम (30 percent cut in revised syllabus) किया है। बारहवीं की बोर्ड परीक्षा का आयोजन कम किए गए सिलेबस के आधार पर ही किया जाएगा।

सीइटी (CET) ही नहीं अन्य प्रवेश परीक्षाओं को लेकर भी विद्यार्थी चिंतित हैं। एक विद्यार्थी ने कहा कि बोर्ड परीक्षा के लिए सिलेबस में कटौती की गई है लेकिन प्रवेश परीक्षाओं को लेकर भी स्पष्ट दिशा-निर्देश जारी हो। इससे परीक्षा की तैयारी आसान होगी। दबाव कम होगा। कोई भी काम जिससे अनिश्चितता हो, उससे तनाव या चिंता का जन्म होता है।

Show More
Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned