कर्नाटक में होम क्वारंटाइन नियम समाप्त, आवाजाही आसान

- पंजीकरण या स्क्रीनिंग की भी आवश्यकता नहीं

By: Nikhil Kumar

Published: 25 Aug 2020, 09:55 PM IST

बेंगलूरु. अन्य राज्यों से कर्नाटक पहुंचने वालों को अब 14 दिनों के अनिवार्य होम क्वारंटाइन से मुक्ति मिल गई है। अनलॉक-3 के लिए जारी नए दिशा-निर्देशों के अनुसार सेवा सिंधु ऐप पर भी पंजीकरण कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। प्रदेश की सीमाओं पर बनी चेक पोस्ट, रेलवे स्टेशन, बस अड्डे या फिर हवाई अड्डे पर मेडिकल जांच नियम को भी समाप्त कर दिया गया है।

घर के बाहर होम क्वारंटाइन पोस्टर, हथेली पर होम क्वारंटाइन स्टैंप, पड़ोसियों या रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन आदि को सूचित करना अब बीते दिनों की बात होगी।

कर्नाटक पहुंचने वाले असिंप्टोमेटिक लोग बिना किसी रोक-टोक के दफ्तर आदि आ-जा सकेंगे सकेंंगे। दो सप्ताह के लिए क्वारंटाइन रहने की अनिवार्यता नहीं होगी। बुखार, सर्दी, खांसी, गले में दर्द या सांस लेने में समस्या होने की स्थिति में संबंधितों को 14 दिनों तक स्वत: क्वारंटाइन रहने, स्वास्थ्य पर ध्यान रखने और अविलंब चिकित्सकीय परामर्श की सलाह दी गई है। लोग हेल्पलाइल संख्या 14410 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

सिंप्टोमेटिक होने की स्थिति में संबंधित खुद को फौरन आइसोलेट कर चिकित्सकीय परामर्श लेंगे और हेल्पलाइल संख्या 14410 पर संपर्क करेंगे।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned