नरभक्षी बाघिन को पकड़ा

- 24 घंटे में दो लोगों को बनाया शिकार

By: Nikhil Kumar

Published: 22 Feb 2021, 09:24 AM IST

बेंगलूरु. वन विभाग की टीम ने आखिरकार रविवार को कोडुगू जिले (Kodugu) में एक नौ वर्षीय नरभक्षी बाघिन को पकड़ लिया। महज 24 घंटे में ही दो लोगों को शिकार बनाने वाली बाघिन के पकड़े जाने से इलाके के लोगों ने राहत की सांस ली।

रविवार सुबह बाघिन के हमले में एक वृद्ध महिला की मौत के बाद वन विभाग ने उसे पकडऩे के लिए अभियान छेड़ा था। बाघिन ने शनिवार रात भी एक बालक को शिकार बनाया था। वन विभाग के शूटरों ने बाघिन को बेहोश कर पकड़ा। मैसूरु दशहरा (Mysore Dasara) महोत्सव में जंबो सवारी के दौरान 750 किलो वजनी सोने का हौदा उठाने वाले 54 वर्षीय हाथी अभिमन्यु (elephant abhimanyu)के साथ ही अन्य प्रशिक्षित हाथियों ने भी वन विभाग की मदद की।

मुख्य प्रधान वन संरक्षक विजय कुमार गोगी ने बताया कि बाघिन के दाएं पंजे में जख्म के निशान हैं। होश में आने के बाद पशु चिकित्सकों ने बाघिन का स्वास्थ्य परीक्षण किया। वह स्वस्थ है। उन्होंने कहा कि बाघिन (tigress) ने लोगों को अपना शिकार क्यों बनाया, यह समझने के लिए उसके दांतों और जख्म की गहराई से जांच की जाएगी। रिपोर्ट के आधार पर उसे वापस जंगल (forest) में छोड़ाने या पुनर्वास के लिए चिडिय़ाघर भेजने पर निर्णय लिया जाएगा। तब तक उसे नागरहोले टाइगर रिजर्व (nagarhole tiger reserve) के पुनर्वास केंद्र में ही रखा जाएगा।

गौरतलब है कि कि कोडुगू जिले के टी. शेट्टीगेरी गांव में रविवार सुबह 60 वर्षीय महिला बाघिन का शिकार हो गई। 24 घंटे में इस तरह की यह दूसरी घटना है। इससे पहले शनिवार देर शाम जिले के श्रीमंगला स्थित एक फार्म में बाघ ने अयप्पा नामक एक 16 वर्षीय बालक का शिकार किया था। करीब 10 किमी की दूरी पर घटित दोनों मामलों में इसी बाघिन के शामिल होने की संभावना है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned