scriptKarnataka government to induct 'Agneepath Sainik' into police force | ‘अग्निपथ सैनिक’ पुलिस बल में शामिल करेगी कर्नाटक सरकार | Patrika News

‘अग्निपथ सैनिक’ पुलिस बल में शामिल करेगी कर्नाटक सरकार

- गृह मंत्री बोले, सैन्य भर्ती के विरोध में प्रदर्शनों के पीछे साजिश
- कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए उठाए कदम

बैंगलोर

Published: June 18, 2022 10:24:27 am

गृह मंत्री अरगा ज्ञानेंद्र ने कहा कि राज्य सरकार 'Agneepath Sainik' को अपने पुलिस बल में शामिल करेगी। उन्होंने सरकार की नई सैन्य भर्ती नीति के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों की निंदा की।

ज्ञानेंद्र ने यहां शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा ‘हमने योजना बनाई है कि ऐसे 4 साल के सैन्य प्रशिक्षुओं को पुलिस में भर्ती किया जा सकता है।’ इससे पहले भाजपा शासित मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश ने भी इस योजना के विरोध के बीच ऐसे कदम उठाने की घोषणा की है।

‘अग्निपथ सैनिक’ पुलिस बल में शामिल करेगी कर्नाटक सरकार
‘अग्निपथ सैनिक’ पुलिस बल में शामिल करेगी कर्नाटक सरकार

गृहमंत्री ने स्वीकार किया कि बेरोजगारी एक ज्वलंत मुद्दा है और युवा सिर्फ 5 हजार रुपए प्रति माह तक की नौकरी करने पर मजबूर हो रहे हैं। ऐसे में ‘अग्निपथ’ योजना से लाखों उम्मीदवारों को लाभ होगा। सैन्य सेवा के बाद उन्हें पुलिस और सुरक्षा प्रतिष्ठानों में सेवाओं के लिए चुना जा सकता है। लोग क्यों विरोध कर रहे हैं उन्हें समझ में नहीं आता।

उन्होंने कहा कि समाज में कुछ वर्ग ऐसे हैं जो किसी भी परिवर्तन की अनुमति नहीं देंगे। अग्निपथ एक नई योजना है जिसकी घोषणा केंद्र ने ही की है। इसे लागू भी नहीं किया गया है। यह एक बहुत अच्छी योजना है। इजरायल जैसे देशों में, युवाओं के लिए सैन्य प्रशिक्षण अनिवार्य है।

उन्होंने कहा कि यहां सरकार 30-40 हजार रुपए के वेतन के साथ चार साल के लिए सैन्य प्रशिक्षण देना चाहती है। उसके बाद उन्हें 12-13 लाख रुपए की एकमुश्त राशि दी जाएगी। उनमें से 25 प्रतिशत को सेना में रखा जाएगा। फिर भी इसका विरोध हो रहा है।

ज्ञानेंद्र ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें चल रहे विरोध प्रदर्शनों के पीछे ‘ताकतों’ का पता लगा रही हैं। अचानक, लोग सड़कों पर उतर आए और चीजों को आग लगाना शुरू कर दिया। वे एक मुखौटा पहनते हैं। यह एक साजिश है।

अग्निपथ योजना के खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों में हिंसा पर मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा, राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रभावी उपाय किए गए हैं। डीजीपी, एडीजीपी, बेंगलूरु पुलिस आयुक्त और गृह सचिव के साथ एक दिन पहले बैठक की और उन्हें किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए कड़े एहतियाती कदम उठाने का निर्देश दिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाब"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेताPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासमुकुल रॉय ने पश्चिम बंगाल विधानसभा के पब्लिक अकाउंट्स कमेटी के चैयरमैन पद से दिया इस्तीफा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.