ब्रिटिश काउंसिल तथा कर्नाटक के बीच समझौता

शैक्षणिक रिश्ते और मजबूत

By: Sanjay Kulkarni

Published: 18 Dec 2020, 08:49 AM IST

बेंगलूरु. उच्च शिक्षा संस्थाओं में द्विपक्षीय सहयोग के लिए गुरुवार को राज्य सरकार तथा ब्रिटिश काउंसिल ने एक समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए।मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा ने कहा कि उच्च शिक्षा संस्थाओं में नेतृत्व विकास से जुड़े पाठ्यक्रमों को लेकर तीन वर्षीय समझौते के लिए दोनों पक्षों ने हस्ताक्षर किए गए हंै।

उन्होंने कहा कि सहकार, वाणिज्य, रक्षा, उद्यम, शिक्षा, विज्ञान तथा तकनीक क्षेत्रों में भारत तथा ब्रिटन सरकारों के बीच सहयोग लगातार बढ़ रहा है।ब्रिटिश काउंसिल (भारत) की निदेशक बार्बरा विकहैम ने कहा कि इस समझौते के कारण भारत तथा ब्रिटन सरकारों के बीच के शैक्षणिक रिश्ते और मजबूत हो गए है। साथ में हाल में भारत सरकार की ओर से घोषित की गई राष्ट्रीय शिक्षा नीति २०२० में स िमलित ज्ञान वृद्घि के आशय का हम समर्थन कर रहें है। इस समझौते के कारण कर्नाटक के विद्यार्थियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की गुणवत्ता युक्त उच्च शिक्षा प्राप्त करने का अवसर प्राप्त होगा।

समारोह में उपस्थित उच्च शिक्षा तथा उप मुख्यमंत्री डॉ सीएन अश्वथनारायण ने कहा कि आनेवाले दिनों में केंद्र सरकार की राष्ट्रीय शिक्षा नीति के माध्यम से शिक्षा क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव देखने को मिलेंगे। राज्य सरकार ने इस नीति को लागू करने के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली है। ऐसे में ब्रिटिश काउंसिल के सहयोग से राज्य में उच्च शिक्षा संस्थानों में अंतरराष्ट्रीय स्तर की शिक्षा उपलब्ध होगी।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned